मध्यम वर्ग पर से कम होना चाहिए बोझ- पीएम मोदी

नई दिल्ली (12 मार्च): यूपी में मिली प्रचंड जीत के बाद बीजेपी अब जश्न के मूड में है. पीएम मोदी विजय जुलूस में शामिल होकर ली मेरिडियन होटल से पार्टी ऑफिस पैदल मार्च करते हुए पहुंचे। पीएम मोदी ने करीब 400 मीटर की ये दूरी पैदल चलकर तय की। रास्ते में वो लोगों का अभिवादन स्वीकार करते दिखे.  

पार्टी मुख्यलय पर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमें मध्यम वर्ग पर से बोझ कम करना होगा। उन्होंने कहा कि युवाओं व महिलाओं के समूहों में मुझे न्यू इंडिया दिखाई दे रहा है। मुझे नए हिंदुस्तान की नीव दिखाई दे रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सत्ता पद की शोभा का हिस्सा नहीं होती है, सत्ता सेवा करने का अवसर होती है। भाजपा का अब झुकने का जिम्मा बनता है क्योंकि फल लगते ही पेड़ झुकने लगता है। अटलजी, आडवाणीजी जैसे कई नेताओं ने अपना पसीना बहाया है, तब कहीं जाकर ये वट वृक्ष बना है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि गरीब को जितना मौका मिलेगा, देश उतना ही ज्यादा आगे बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि देश का मध्यम वर्ग सारी मर्यादाओं का पालन करता है। गरीब ही हमारे देश की सबसे बड़ी ताक है, इसलिए गरीब पर से बोझ कम होना चाहिए। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह व पार्टी की केंद्रीय कमेटियों के सदस्यों की भी तारीफ की। उन्होंने कहा कि अमित शाह ने पार्टी सदस्यता के मामले में भाजपा को विश्व की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बना दिया है। उन्होंने कहा कि 2022 को अभी पांच साल हैं, यदि हर व्यक्ति हर साल एक-एक संकल्प लेकर उसे पूरा करे तो देश का विकास होगा।

प्रधानमंत्री ने पांचों राज्यों के मतदाताओं को धन्यवाद देते हुए कहा कि मैं भरोसा दिलाता हूं कि हमारे जीतने वाले साथ आपकी आशा और आकाक्षांओं को पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगें। इसके लिए नई चीजें सीखना होगी तो वह सीखेंगे। अच्छे इरादों को लेकर आगे बढ़ेंगे।

पीएम मोदी की बड़ी बातें...

- देश का गरीब ही देश की ताकत

- मध्यम वर्ग पर बोझ कम होना चाहिए

- BJP का स्वर्णिम समय है

- हरेक पीएम और सीएम के काम का आदर करते हैं

- सरकार बहुमत से नहीं सर्वमत से चलेगी

- सरकार सबकी, सबको साथ लेकर होती है

- हमसे पूछा जाता है कि इतना परिश्रम क्यों करते हो। इससे बड़ा सौभाग्य क्या हो सकता है

- हमसे गलती हो सकती है लेकिन गलत इरादे से कोई काम नहीं करेंगे

- 2014 में घोषणा पत्र प्रस्तुत करते वक्त जो कहा उसे गलत अर्थ में लिया गया

- विश्वास दिलाता हूं कि हमारे साथी आपकी आकाक्षाओं को पूर्ण करने में कोई कमी नहीं रखेंगे

- 2022 के भारत के सपनों को पूरा करने के लिए एक आंदोलन करना है

- हम सवा सौ करोड़ देशवासियों को साथ लेकर न्यू इंडिया को आगे बढ़ाना चाहते हैं

- अमित शाह ने पूरे विश्व में दुनिया की सबसे बड़ी लोकतांत्रिक पार्टी बना दी

- सत्ता सेवा करने का एक अवसर होती है। हमने कई बार विजय प्राप्त की है। कई पीढ़ियां इस काम में खप गई हैं

- कोई कितना भी बड़ा पेड़ क्यों न हो, फल लगते ही झुकने लगता है। हमरा अधिक नम्र बनने का जिम्मा बनता है

- हमें निरंतर कोशिश करते रहना चाहिए ताकि हम जनता जनार्दन की आकांक्षाओं को पूरी कर पाएं

- यह न्यू इंडिया की नींव है। इस चुनाव में कौन जीता कौन हारा। मैं इस दायरे में सोचने वालों में से नहीं हूं

- यह न्यू इंडिया देश के युवाओं में कुछ पाने के अलावा कुछ करने के लिए अवसर की मांग करता है