आतंकवाद की मदद करने वालों को बख्शा नहीं जा सकता: पीएम मोदी

लखनऊ (11 अक्टूबर): पहली बार ऐसा हुआ है कि देश का कोई प्रधानमंत्री सबसे पुरानी रामलीला ऐशबाग में पहुंचे। हालांकि ऐशबाग रामलीला समिति की तरफ से हर बार देश के दूसरे प्रधानमंत्रियों को रामलीला में शामिल होने के लिए न्योता भेजा जाता था।

जो आतंकवाद करते हैं उनको जड़ से खत्म करने की जरूरत है। जो आतंकवाद को मदद देते हैं अब तो उनको भी बख्शा नहीं जा सकता।

कृष्‍ण के जीवन में युद्ध था, राम के जीवन में युद्ध था पर हम वो हैं जो युद्ध से बुद्ध के मार्ग पर जाना चाहते हैं।

ये देश चक्रधारी मोहन का भी है और बुद्ध का भी है। हम युद्ध से बुद्ध की यात्रा के लोग हैं।

हम बेटी और बेटा में फर्क करते हैं और मां के गर्भ में कितनी सीता को मौत के घाट उतार देते हैं।

हम आज विजयादशमी का त्योहार मना रहे हैं और पूरा विश्व गर्ल चाइल्ड डे भी मना रहा है।

आतंकवाद हमारी सोसायटी में एक वायरस की तरह है। पूरी दुनिया आतंकवाद की चपेट में आकर बर्बाद हो रही है।

रामायण आतंकवाद के खिलाफ लड़ने का पहला सबूत है। जटायू ने एक महिला के सम्मान को लेकर रावण से लड़ाई की थी। अगर आप श्रीराम नहीं बन सकते तो आप जटायू बन जाएं तो आतंकवाद अपने आप खत्म हो जाएगा।

हमें हर दशहरा में अपने अंदर की 10 बुराइयों को मारना चाहिए।

हम हर साल रावण दहन करते हैं, लेकिन हम क्या सीखते हैं। हर बार हमें अपने अंदर के रावण को खत्म करने का प्रण करना चाहिए।

ऐशबाग रामलीला ग्राउंड में बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि विजयदशमी अत्याचारी को परास्त करने का पर्व है।

पीएम मोदी ने पूरी दुनिया में संदेश दिया है कि भारत कमजोर नहीं है। अब मोदी जी के नेतृत्व में भारत मजबूत बना है।

ऐशबाग रामलीला ग्राउंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रतिकात्मक सुदर्शन चक्र भी उठाया।

ऐशबाग रामलीला में धनुष-बाण थामे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गद्दा भी उठाया।

ऐशबाग पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम-लक्ष्मण के स्वरूपों का तिलक किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लखनऊ के ऐशबाग की रामलीला में शामिल होने के लिए पहुंच चुके हैं। लखनऊ में प्रधानमंत्री को रिसीव करने के लिए राज्यपाल राम नाइक से लेकर बीजेपी के दूसरे कई बड़े नेता भी मौजूद थे।

 

वीडियो:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=1bNGfoGtdXE[/embed]