17000 करोड़ की लागत से भारत-इजरायल बनाएंगे मिसाइल

नई दिल्ली ( 26 फरवरी ): भारत और इजरायल मिलकर मध्यम रेंज की सतह से हवा में मार करने वाली (एमआर-एसएएम) मिसाइल बनाएंगे। केंद्र सरकार ने इजरायल से 17,000 करोड़ रुपए के रक्षा सौदे को मंजूरी दे दी। दोनों देश मिलकर मध्यम दूरी की सरफेस टू एयर मिसाइल बनाएंगे। ये मिसाइलें भारतीय सेना के लिए विकसित की जाएंगी। जमीन से हवा में मार करने वाली ये बराक मिसाइल 17 हजार करोड़ की लागत से तैयार होगी।

केंद्र सरकार ने सेना के लिए इजरायल के साथ सतह से हवा में मार करने वाली मध्यम श्रेणी की मिसाइल (एमआर-एसएएम) संयुक्त रूप से विकसित करने के लिए 17000 करोड़ रुपये के सौदे को हरी झंडी दे दी है। यह भारत का इजरायल के साथ तेजी से बढ़ते रक्षा संबंधों को दिखाता है। परियोजना को रक्षा अनुसंधान-विकास संगठन (डीआरडीओ) और इजरायली एयरक्राफ्ट इंडस्ट्री (आईएआई) द्वारा क्रियान्वित किया जाएगा।

सौदे को मंजूरी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस साल बाद में इजरायल की संभावित यात्रा से पहले दी गई है। 2017 में दोनों देशों के बीच कूटनीतिक संबंध स्थापना की 25वीं वषर्गांठ है। खबरों के मुताबिक प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में सुरक्षा पर कैबिनेट समिति की पिछले बुधवार को हुई बैठक में मिसाइल सौदे को मंजूरी प्रदान कर दी गई।

यह अत्याधुनिक मिसाइल जमीन से आसमान में 70 किलोमीटर तक किसी भी लक्ष्य को ध्वस्त कर ने में सक्षम होगी।