अमेरिकी संसद में बोले PM मोदी : 'भारत अमेरिका के रिश्ते के बीच एक नई धुन छेड़ दी गई है'

नई दिल्ली (8 जून): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अमेरिकी कांग्रेस के संयुक्त सत्र को संबोधित किया। इससे पहले ही अमेरिकी संसद के स्पीकर पॉल रेयान से पीएम मोदी की मुलाकात की तस्वीरें आई। आपको बता दें कि पीएम मोदी यूएस कांग्रेस में बोलने वाले भारत के पांचवें पीएम हैं, जो प्रतिनिधि सभा के न्योते पर अमेरिकी कांग्रेस को संबोधित करने पहुंचे।

पीएम मोदी ने अपने भाषण में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सुधार व आतंकवाद के मुद्दे पर अमेरिका को बड़ा संदेश दिया। उन्होंने साफ कहा कि आतंकवाद दुनिया की सबसे बड़ी समस्या है। इसका खात्मा हर हाल में जरूरी है। उन्होंने अमेरिका से अपील की कि मानवता में भरोसा करने वाले देशों और लोगों को एक साथ आने की जरूरत है। भारत का इरादा बताते हुए कहा कि भारत एशिया से अफ्रीका तक आतंकवाद का खात्मा चाहता है।

आतंकवाद को अलग अलग नामों से बुलाए जाने से असंतोष जताते हुए पीएम ने कहा कि इसका कोई धर्म नहीं होता। भारत शांति ही चाहता है। उन्होंने पाकिस्तान का नाम लिए बिना उसपर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पिछले साल दिसंबर में वह शांति का पैगाम लेकर गए थे। उन्होंने शांति की पहल की। ऐसे में परिस्थितयों को देखते हुए आतंक का साथ देने वाले देशों को अलग करने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि अमेरिकी कंपनियों की नजर में भारत पसंदीदा जगह है। लेकिन अमेरिका के साथ रिश्ते केवल व्यापारिक नहीं हैं। इन्हें एक नया मोड़ देने की जरूरत है। जिसके लिए भारत पूरी तरह से तैयार है। अपने भाषण के अंत में पीएम मोदी ने कहा, "भारत अमेरिका के रिश्ते के बीच एक नई धुन छेड़ दी गई है।"

महात्मा गांधी, मार्टिन लूथर और स्वामी विवेकानंद की बातों का सन्दर्भ देते हुए पीएम ने दुनिया की सबसे ताकतवर संसद में खूब तालियां बटोरीं।

पीएम मोदी के भाषण की खास बातें