अब इस गांव को गोद लेंगे पीएम मोदी

नई दिल्ली (14 अक्टूबर): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कुश्ती व जूडो खिलाड़ियों के गांव को गोद लेने जा रहे हैं। जिला मुख्यालय से 13 किमी दूर यह गांव है ककरहिया।

इस गांव ने कुश्ती और जूडो के चार अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी दिए, वहीं राष्ट्रीय स्तर पर गांव का नाम चमकाने वालों की संख्या दर्जनभर से ज्यादा है। इस गांव को सांसद आदर्श ग्राम घोषित करने से पहले लोकसभा सांसद सीआर पाटिल के साथ पीएम के पीए तन्मय ने इसका दौरा किया।

पीएम की ओर से इस गांव में इंजिनियरों की टीम ने तो वैसे दस दिन से डेरा डाला हुआ है, लेकिन गुजरात के सांसद सीआर पाटिल सुंधाशु मित्तल के साथ पीएम के पीए तन्मय के पहुंचने के साथ यहां के ग्रामीणों में गजब उत्साह दिखाई दिया। मोदी ने अपने संसदीय-क्षेत्र में जब पहले आदर्श ग्राम का चयन करने वाले थे, तभी ककरहिया का नाम उछला था लेकिन चयन जयापुर का हुआ था।

तीसरे साल सांसद आदर्श ग्राम के रूप में अब ककरहिया को चयन होने की तैयारी पूरी हो गयी है। रोहनिया विधानसभा क्षेत्र के इस गांव की आबादी लगभग दो हजार है।

न बिजली, न पानी, न है नाली जिला मुख्यालय से मात्र 13 किमी दूर होने के बाद भी ककरहिया गांव मूलभूत सुविधाओं में काफी पिछड़ा है। इस गांव में ढंग से ना बिजली की व्यवस्था है, ना ही गांव वालों को स्वच्छ पानी नसीब है। इस गांव में 30 फीसदी घर आज भी लालटेन युग में जी रहे हैं।

यह निकले हैं अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी पिछड़ेपन की कोख में पल रहे ककरहिया गांव में कुश्ती के साथ जूडो खिलाड़ियों की भरमार है। इस गांव ने राजभर, पटेल व गौड़ बहुल, रामश्रय पाल, रामश्रय यादव समेत चार अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी दिए, वहीं इन खिलाड़ियों ने कई राष्ट्रीय खिलाड़ी तैयार किये।