3.3 करोड़ फर्जी और डुप्लीकेट एलपीजी कनैक्शन खत्म कर 21 हजार करोड़ बचाये

नई दिल्ली (7 फरवरी): तेल मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा है कि एनडीए सरकार ने  कार्यभार संभाला को 'हमारे सामने सब्सिडी की गड़बड़ व्यवस्था थी जिसमें अमीर और उच्च मध्य वर्गीय लोग एलपीजी सब्सिडी दी जा रही थी। तीन करोड़ से ज्यादा  ड्युप्लिकेट कनेक्शन थे और सब्सिडी वाली एलपीजी का कॉमर्शियल और इंडस्ट्रियल यूज होता था। नतीजतन, बेहद जरूरतमंद आबादी तक एलपीजी पहुंच ही नहीं पाती थी। साल 2014 में करीब-करीब आधे भारतीय परिवार एलपीजपी कनेक्शन से महरूम थे। हमने ठान लिया कि इस परिस्थिति को बदलना है।' प्रधान ने कहा कि सब्सिडी मेकनिजम में सुधारों- फर्जी कनेक्शन का खात्मा और डायरेक्ट सब्सिडी ट्रांसफर- से मोदी सरकार ने दो सालों में 21,000 करोड़ रुपये बचा लिए। उन्होंने बताया कि इसी अवधि में सब्सिडी के 40,000 करोड़ रुपये सीधे ग्राहकों के खातों में ट्रांसफर किए गए।