प्लास्टिक नोट को हरी झंडी, ऐसे होगा पुराने नोट से होगा अलग !

नई दिल्ली (17 मार्च): 2000 और 500 रुपये के नए नोट के बाद अब सरकार देश में जल्‍द ही प्‍लास्टिक नोट शुरू करने जा रही है। वित्त राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने शुक्रवार को लोकसभा में एक सवाल के जवाब में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि देश में पांच स्थानों से प्लास्टिक के नोटों को परीक्षण के आधार पर प्रचलन में लायेगा। हालांकि मेघवाल ने उन पांच स्थानों का खुलासा नहीं किया, जहां से प्लास्टिक के नोट का फील्ड ट्रायल शुरू किया जाना है।


वित्त राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि सरकार ने इस आशय के फैसले को मंजूरी दे दी है। अभी ट्रायल का समय तय किया जाना बाकी है। इसके तहत पहले चरण में दस रुपये के प्लास्टिक के नोट चलाए जाएंगे. इन नोटों की उपलब्धता और छपाई के बारे में भारतीय रिजर्व बैंक को सूचित कर दिया गया है।


इनकी उपयोगिता के बारे में पूछे गए सवाल के जवाब में मेघवाल ने कहा कि रिजर्व बैंक ने बैंक नोटों के विश्वव्यापी प्रचलन की विधियों के अध्ययन के आधार पर दीर्घकाल तक चलन में रहने के कारण प्लास्टिक के नोट को बेहतर विकल्प माना है। इसके अलावा मौजूदा प्रचलन में जारी नोटों को नए सिरे से ठीकठाक करना और प्रकाशन में फाइबर मिश्रण के विकल्प पर भी विचार किया जा रहा है।


सबसे पहले सरकार ने फरवरी 2014 में 10 रुपए मूल्‍य के प्‍लास्टिक नोट को फील्‍ड ट्रायल के लिए मंजूरी दी थी। इसके बाद सरकार ने फरवरी 2014 में संसद को सूचित किया था कि प्रायोगिक आधार पर अलग-अलग पांच शहरों में 10 रुपए के एक अरब प्लास्टिक नोट जारी किए जाएंगे। इन शहरों में कोच्चि, जयपुर, शिमला तथा भुवनेश्वर शामिल किए गए थे।