हो जाएं सावधान, भारत के बाजार में मिल रहे हैं प्लास्टिक के अंडे

नई दिल्ली ( 1 अप्रैल ): अभी तक आप दूध में सैंपू, तरबूज व फलों के रंग पकाने के लिए कैमिकल प्रयोग करने की बात से परिचित होंगे, लेकिन अब आप यह जानकर दंग रह जाएंगे कि बाजार में नकली या प्लास्टिक के अंडे बेचे जाने का मामला सामने आया है।


भारत में चीन के फेक अंडों को बेचे जाने की खबर पहले भी आ रही थीं लेकिन पहली बार कोलकाता के एक दुकानदार को नकली अंडे बेचने के लिए गिरफ्तार किया गया है। कोलकाता की एक महिला अनीता कुमार ने गुरुवार शाम को करीया पुलिस स्टेशन में एक रिपोर्ट लिखाई कि उन्होंने जो अंडे खरीदे थे वे प्लास्टिक थे।


अनीता कुमार ने अपनी शिकायत में कहा कि जब वह उन अंडों से ऑमलेट बनाने की कोशिश कर रही थीं तब उन्हें लगा कि वे आर्टिफिशल हैं। शुक्रवार की सुबह कोलकाता पुलिस ने दुकानदार मोहम्मद शामिम अंसारी को गिरफ्तार कर लिया।


अनीता कुमार ने कहा, डॉक्टर ने मेरे बेट को रोज एक अंडा खाने को कहा है। हम लोकल बाजार से बहुत सारे अंडे एक साथ ले लेते हैं। मैंने नोटिस किया कि मेरा बेटा जब भी ये अंडे खाता, वह बीमार पड़ जाता। मुझे लगा कि जरूर अंडों में कुछ खराबी है। ये अंडे खाकर मेरे बेटे के शरीर में चकत्ते पड़ने लगे।


अनीता ने कहा, जब मैंने माचिस की तीली जलाई तो अंडे का बाहरी खोल प्लास्टिक की बू के साथ जलने लगा। इसके बाद मैंने दूसरी दुकान से अंडे खरीदे और उन्हें पैन में तला। उन अंडों में कोई खराबी नहीं थी। इसके बाद मैंने तुरंत करीया पुलिस स्टेशन पर रिपोर्ट लिखाई।


हालांकि, अंसारी ने यह दावा किया कि मैं थोक विक्रेता से ही अंडे खरीदता हूं और ये फर्जी नहीं हो सकते। पुलिस के अनुसार अंसारी ने आंध्रप्रदेश के एक थोक व्यापारी से 1.15 लाख के अंडे खरीदे। आरोपी ने कहा कि अगर ऐसा है तो हो सकता है कि उस थोक विक्रेता ने चीन से ये अंडे खरीदे हों।


दुकान से बरामद किए गए अंडे और अनीता के घर में रखे अंडों को टेस्ट के लिए लैब में भेजा गया है।


बता दें कि पिछले साल केरल में चीन के चावल बेचे जाने की खबर थी। जांच करने पर पता चला कि प्लास्टिक से बना चावल भारी मात्रा में मार्केट में बेचा जा रहा था। इस चावल को आलू, मीठे आलू और प्लास्टिक को मिलाकर बनाया जा रहा था और इसे पकाने पर सूप के ऊपर एक प्लास्टिक की लेयर चढ़ जाती थी।