सुप्रीमकोर्ट में शशिकला के खिलाफ याचिका

नई दिल्ली ( 6 फरवरी ): तमिलनाडु की नई मुख्यमंत्री के रूप में वीके शशिकला के शपथ लेने पर सस्पेंस बरकरार है। माना जा रहा है कि मंगलवार को वह मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले सकती हैं। इसी बीच सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दाखिल की गई, जिसमें मंगलवार को उनके शपथ ग्रहण समारोह पर रोक लगाने की मांग की गई है।

सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका में दलील दी गई है कि एक सप्ताह में सुप्रीम कोर्ट उनके और राज्य की दिवंगत सीएम जयललिता के खिलाफ भ्रष्टाचार के एक मामले में फैसला सुना सकता है। कोर्ट में यह याचिका चेन्नई के रहने वाले सेन्थिल कुमार ने दाखिल की है। सेन्थिल सत्ता पंचायत अयक्कम एनजीओ के महासचिव हैं।

कोर्ट ने संकेत दिए थे कि वह 19 साल पुराने आय से अधिक संपत्ति के मामले में जयललिता और शशिकला को बरी किए जाने के संबंध में फैसला सुना सकता है। इसके कुछ ही घंटों बाद सेन्थिल ने सुप्रीम कोर्ट में यह याचिका दाखिल की। इस याचिका पर मंगलवार सुबह सुनवाई हो सकती है।

कुमार ने अपनी याचिका में कहा है कि मामले में वह अपनी ओर से खुद दलीलें देंगे। उन्होंने कल होने वाले शशिकला के शपथ ग्रहण समारोह पर रोक लगाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि अगर उन्हें दोषी ठहराया गया और उसके बाद उनसे इस्तीफा देने के लिए कहा गया तो पूरे तमिलनाडु में दंगे भड़कने की आशंका है।

याचिकाकर्ता ने दावा किया कि अगर उन्हें दोषी ठहराया गया तो एआईएडीएमके कार्यकर्ता राज्य में एक बार फिर सामान्य जनजीवन प्रभावित कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में शांति बनाए रखने और उसके लोगों के लिए उन्होंने यह याचिका दाखिल की।

बता दें कि राज्य के सीएम पन्नीरसेल्वम ने शशिकला के लिए रविवार को पद से इस्तीफा दे दिया था। शशिकला को रविवार को सर्वसम्मति से एआईएडीएमके के विधायक दल का नेता चुन लिया गया था।