बाइक पर लड़की की लाश, वायरल हुई फोटो

नई दिल्ली(21 फरवरी): सोशल मीडिया पर इन दिनों एक तस्वीर वायरल हो रही है। तस्वीर में  एक परिवार मोटरसाइकल पर अपनी बेटी की लाश को बीच में बैठाकर ले जा रहा है। यह घटना तुमाकुरु जिले के वीरापुरा गांव की है। यह लड़की बोल नहीं सकती और उसकी ग्रोथ भी उसकी अम्र के बच्चों से बहुत कम है। लड़की की मां गौरम्मा फूल बेचती है और उसके पिता थिमप्पा कुली का काम करते हैं।

- शुक्रवार के लड़की की तबीयत खराब थी तो उसे नीम-हकीम के पास ले जाया गया। उसने उसे दो इंजेक्शन लगाए और सीरप और टेबलेट्स दीं। लड़की की तबीयत सुधरने लगी लेकिन दूसरे ही दिन उसकी हालत बहुत खराब हो गई। लड़की के माता-पिता उसे दोबारा उसी हकीम के पास ले गए। हकीम ने उसे दवाइयां दीं।

- रविवार सुबह 7 बजे वे उसे सरकार अस्पताल ले गए लेकिन वहां डॉक्टर नहीं था। वे उसे फिर से उसी हकीम के पास ले गए लेकिन वह भी नहीं मिला। जब वे उसे नहीं ढूंढ सके तो दूसरे डॉक्टर के पास गए लेकिन वहां उन्हें इंतजार करना पड़ा। फिर उन्होंने वापस पहले वाले डॉक्टर के पास जाने का फैसला किया। लड़की की हालत और भी नाजुक हो गई थी। डॉक्टर उसकी जांच कर ही रहे थे कि उसने दम तोड़ दिया।

- परिवार ने फैसला किया कि वे उसी उसी मोपेड(मोटरसाइकल) पर घर लेकर जाएंगे जिस पर वे उसे असपताल लेकर आए थे और यह तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। लड़की की मौत का कारण दवाइयों की ओवरडोज बताया जा रहा है।

- लड़की के माता-पिता ने कहा, 'वह बोल नहीं सकती थी लेकिन वह बहुत प्यारी बच्ची थी। वह अपने पिता के खाने के बाद ही कुछ खाती थी।'

- जिला स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण के ऑफिसर डॉक्टर रंगस्वामी ने कहा कि उन लोगों ने सरकार की सुविधाओं को उपयोग नहीं किया और न ही उन्होंने ऐंबुलेंस को फोन किया। उन्होंने कहा कि हम जांच कर रहे हैं कि क्या वे किसी हकीम के पास गए थे। इन क्षेत्रों में नीमहकीमी एक बड़ी समस्या बन चुकी है।