पाक एयरलाइंस ने उड़ान के दौरान 7 यात्रियों को खड़ा रखा, जांच के आदेश

नई दिल्ली(24 फरवरी): पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (PIA) के एक विमान में 7 यात्रियों को 3 घंटे से ज्यादा की उड़ान के दौरान पूरे वक्त खड़े रखने का मामला सामने आया है।

- कराची से मदीना जाने वाली फ्लाइट नम्बर PK-743 में यह घटना 20 जनवरी को हुई थी।

- एयर सेफ्टी रेगुलेशंस के सीरियस वॉयलेशन की इस घटना का अब जाकर खुलासा हुआ है। सोर्सेज के मुताबिक ज्यादा पैसेंजर्स की बुकिंग के चलते ऐसा किया गया।

- रिपोर्ट के मुताबिक, ऐसा लगता है कि PIA मैनेजमेंट ने प्लेन में हुई इस अजीब घटना को पहले हल्के में लिया और इसके जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने से बचने की कोशिश की।

- सोर्सेज के मुताबिक, PIA स्टाफर्स में शामिल पायलट, सीनियर पर्सर (एयर होस्टेस) और ट्रैफिक स्टाफर्स इसका दोष एक-दूसरे पर डालने की कोशिश कर रहे हैं।

- यहां तक कि एविएशन रेगुलेटर और सिविल एविएशन अथॉरिटी ने भी पैसेंजर्स की जान को खतरे में डालने के इस मामले में एयरलाइन या उसके स्टाफर्स के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की।

- PIA के स्पोक्सपर्सन दानयाल गिलानी ने कहा है कि मामले की जांच की जा रही है। अगर किसी को किसी गलत काम का जिम्मेदार पाया जाएगा तो कंपनी के नियमों के तहत उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

- बोइंग 777 एयरक्राफ्ट में पैसेंजर्स के बैठने की कैपेसिटी 409 है, इसमें जम्प सीट्स भी शामिल हैं।

- जबकि फ्लाइट PK-743 में 416 पैसेंजर्स को कराची से मदीना तक ले जाया गया।

- सोर्सेज का कहना है कि यह इमरजेंसी की स्थिति में एयर सेफ्टी ब्रीच का एक गंभीर मामला है।

- बिना सीट वाले पैसेंजर्स के लिए ऑक्सीजन की फैसिलिटी नहीं होती है।

- एक्स्ट्रा पैसेंजर्स को कम्प्यूटर के बजाए हैंड रिटेन बोर्डिंग पास जारी किए गए थे।

- ग्राउंड ट्रैफिक स्टाफ की तरफ से एयरक्राफ्ट क्रू को मुहैया कराई गई कम्प्यूटर जेनरेटेड लिस्ट में भी एक्स्ट्रा पैसेंजर्स का जिक्र नहीं था।