अब ईपीएफओ से पीएफ निकालना हुआ आसान

नई दिल्ली (14 जुलाई): कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने पीएफ का पैसा निकाले के लिए अपने नियम में एक बदलाव करके लोगों को थोड़ी राहत दी है। इस बदलाव के तहत जिन्होंने 1 जनवरी, 2014 से पहले ईपीएफओ की मेंबरशिप छोड़ चुके मेंबर्स को पीएफ अमाउंट विदड्रॉल करने के लिए अब यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (यूएएन) नहीं देना होगा.

ध्यान रहे कि ईपीएफओ ने पिछले साल दिसंबर में दावे के लिये आवेदनों पर यूएएन उपलब्ध कराने को अनिवार्य कर दिया। इसका मतलब था कि केवल वो ही लोग अपने पीएफ अकाउंट से पैसा निकाल सकते थे जिनके पास यूएएन था। अब जब कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने इसके लिए दिसंबर 2015 में जारी शर्तो में ढील दे दी है तो जाहिर तौर पर उन लोगों के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है, जिनके पास यूएएन नंबर नंबर नहीं है और उन्हें इस नियम से छूट मिलने से बड़ी राहत मिली है।

यूएएन का उल्लेख अनिवार्य करने का मकसद किसी प्रकार की गड़बड़ी को रोकना है। चूंकि यूएएन, आधार, बैंक खाता आदि से जुड़ा है, अत: यह वैध दावाकर्ता को बिना किसी बाधा के राशि प्राप्त करने में मदद करता है। क्लेम फॉर्म में यूएएन इसलिए जरूरी किया गया था, क्योंकि इससे किसी भी प्रकार की गलती होने की संभावना काफी कम हो जाती थी। ध्यान रहे कि ईपीएफओ ने जुलाई 2014 में यूएएन अलॉटमेंट शुरू किया था और अब तक 4 करोड़ लोगों को इसे अलॉट किया जा सकता है।