गाड़ी में तेल डलवाने से पहले पढे लें ये खबर, आज से बदल गए हैं नियम

नई दिल्ली(16 जून): आज से आपको पेट्रोल और डीजल के लिए हर दिन नई कीमत चुकानी होगी। मार्केट के अनुसार कीमतों में बदलाव का फैसला पूरे देश में 16 जून से लागू यानी आज से लागू होगा।

- इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन ने कहा है कि कीमतों में प्रतिदिन बदलाव की योजना के तहत यह तय किया जाएगा कि ग्राहकों को सही कीमत पर पेट्रोल और डीजल मिल सके।

- पूरे देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में रोज सुबह 6 बजे बदलाव होगा। बता दें कि अभी तक कीमतों में बदलाव हर 2 हफ्ते बाद आधी रात को किया जाता था।

- पेट्रोल पंप मालिकों ने अतिरिक्त कर्मचारियों की तैनाती का हवाला देते हुए रात के वक्त कीमतों में बदलाव का विरोध किया था।

- सरकार का यह फैसला देश के 5 शहरों में ऑइल कंपनियों द्वारा 1 मई से चलाए जा रहे पायलट प्रॉजेक्ट का विस्तार है। इन शहरों में उदयपुर, 

जमशेदपुर, पुडुचेरी, चंडीगढ़ और विशाखापट्टम शामिल हैं।

- नई कीमतों की जानकारी पेट्रोल पंपों पर तो मिलेगी ही, इसके अलावा ग्राहक एसएमएस और इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल) की मोबाइल ऐप ([email protected]) के जरिए भी यह जानकारी पा सकेंगे।

- ग्राहकों को आईओसीएल ऐप में जाकर 'लोकेट अस' टैब दबाना होगा। इसके बाद उन्हें मैप में आसपास स्थित पेट्रोल पंप दिखेंगे। ग्राहक पंप पर क्लिक कर नई कीमतों के बारे में जान सकेंगे।

- इसके अलावा ग्राहक अपने शहर में लागू कीमतों के बारे में एसएमएस के जरिए भी जान सकेंगे। इसके लिए उन्हें RSP लिखकर एक स्पेस के बाद डीलर कोड लिखना होगा और इस संदेश को 9224992249 पर भेजना होगा। बता दें कि सभी पेट्रोल पंपो पर उनका डीलर कोड प्रदर्शित किया जाएगा।

- किसी भी शहर में 3 बड़ी कंपनियों (आईओसीएल, बीपीसीएल और एचपीसीएल) के पंपों पर कीमतों में 15 पैसे प्रति लीटर का अंतर हो सकता है। बता दें कि पूरे देश में मौजूद फ्यूल स्टेशनों का 95 फीसदी हिस्सा इन 3 कंपनियों के नियंत्रण में है।

- देश की सबसे बड़ी ऑइल रिटेलर कंपनी आईओसीएल के मुताबिक उसके सभी 26000 डीलरों को कीमतों के बदलाव की जानकारी देने के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि ग्राहकों को कीमतों के बारे में गलत जानकारी न मिले। आईओसीएल के ऑटोमेटेड पेट्रोल पंपो पर कीमतों के बदलाव की सूचना केंद्रीयकृत तरीके से अपडेट होगी, जबकि नॉन-ऑटोमेटेड पेट्रोल पंपो पर बदले मूल्यों की जानकारी उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी डीलरों की होगी।

- अलग-अलग राज्यों में पेट्रोल और डीजल के मूल्यों में अंतर रहेगा। इसका कारण यह है कि पेट्रोलियम प्रॉडक्ट्स जैसे पेट्रोल, डीजल, कच्चा तेल, जेट फ्यूल और नैचरल गैस को अस्थायी तौर पर जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है।