5 से 8 फीसदी तक बढ़ सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम

मुंबई (6 दिसंबर): आने वाले दिनों में आम आदमी पर महंगाई की एक और मार पड़ने वाली है। अगले 3 से 4 महीनों में पेट्रोल और डीजल के दाम 5 से 8 फीसदी तक बढ़ सकते हैं। देश की सबसे बड़ी रेटिंग एजेंसी क्रिसिल के मुताबिक ओपेक देशों के क्रूड ऑयल के उत्पादन में कटौती के कारण भारत समेत तमाम तेल निर्यातक देशों में पेट्रोल और डीजल के दामों में इजाफा होगा।

दरअसल पिछले दिनों क्रूड ऑयल निर्यात करने वाले देशों का संगठन ओपेक प्रोडक्‍शन कम करने का फैसला किया था। इस समझौते के मुताबिक अगले साल जनवरी से ओपेक देश कुल क्रूड उत्‍पादन में 3 फीसदी की कटौती करेंगे। इससे वर्तमान रोजाना 3.37 लाख करोड़ बैरल क्रूड उत्‍पादन कम होकर 3.25 लाख करोड़ बैरल हो जाएगा। इसका असर क्रूड की कीमतों में 10 फीसदी तक इजाफा हो सकता है। ऐसे में पेट्रोल-डीजल की कीमत में बड़ी बढ़ोतरी की संभावना बनने लगी है। माना जा रहा है कि भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ेगी। इससे उपभोक्ता वस्तुओं के दाम बढ़ेंगे और महंगाई से आम लोगों का जीना मुहाल हो जाएगा।

पिछले 8 साल में पहली बार ओपेक देश क्रूड का प्रोडक्‍शन कम करने पर राजी हुए हैं। ऐसा इसलिए किया गया है ताकि पिछले दो साल में क्रूड की कीमतों में प्रति बैरल 100 डॉलर से ज्‍यादा की कमी आई। इससे सऊदी अरब, ईरान जैसे बड़े तेल निर्यातक देशों को बड़ा नुकसान हुआ है और उनकी इकोनॉमी लडख़ड़ा गई है।