'तीन तलाक पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का हलफनामा इस्लाम विरोधी'

नई दिल्ली (5 सितंबर): ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की ओर से तीन तलाक एवं बहुविवाह के संदर्भ में उच्चतम न्यायालय में दिए गए हलफनामे को लेकर देश की कुछ प्रमुख मुस्लिम महिला अधिकार कार्यकर्ताओं ने इस प्रमुख मुस्लिम निकाय पर निशाना साधते हुए आज कहा कि इसका रूख ‘गुमराह करने वाला, इस्लाम विरोधी और महिला विरोधी है।

उन्होंने एक साथ तीन तलाक और बहुविवाह पर रोक लगाने की मांग की और कहा कि अदालती दखल से महिलाओं को उनके वो अधिकार मिलने चाहिए जो शरीयत एवं कुरान में उनको दिए गए हैं। भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन की संस्थापक नूरजहां सफिया नियाज ने कहा कि पर्सनल लॉ बोर्ड ने अदालत के समक्ष जो बातें कीं वो संविधान विरोधी, इस्लाम विरोधी और महिला विरोधी हैं। यह बहुत दुखद स्थिति है।