100 करोड़ से अधिक की संपत्ति का मालिक निकला चपरासी

नई दिल्ली (3 मई): आंध्र प्रदेश के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने एक चपरासी को गिरफ्तार किया है, जो 100 करोड़ रूपए से अधिक संपत्ति का मालिक है। नेल्लोर परिवहन विभाग में महज 40 हजार रुपये महीने की सैलरी वाले चपरासी के पास करोड़ो की गैरकानूनी संपत्ति है।बताया जा रहा है कि ACB अधिकारियों ने मंगलवार को जब 55 साल के नरसिम्हा रेड्डी के ठिकानों पर रेड किया तो रेड्डी, उसकी पत्नी और परिवार के नाम 18 प्लॉट के कागजात मिले। इसके अलावा उसके पास से करीब 7 लाख रुपये की नकदी, बैंक खातों में जमा 20 लाख रुपए, 2 किलो सोने के जेवरात और 50 एकड़ खेती की जमीन का पता चला है। वह नेल्लूर शहर के एमवी अग्रहारम में 3,300 वर्ग फुट के दोमंजिला पेंटहाउस में रहता था।नरसिंह रेड्डी नेल्लोर परिवहन विभाग में 34 साल से नौकरी कर रहा है। रेड्डी ने 22 अक्टूबर, 1984 को सहायक के पद पर ज्वाइन किया था और तब उसकी सैलरी महज 650 रुपये प्रति माह थी। अचरज की बात यह है कि उसका कभी भी ट्रांसफर नहीं हुआ और वह नेल्लूर के परिवहन विभाग के उसी ऑफिस में 34 साल से काम कर रहा था।कथित रूप से वह इस विभाग में दलाली करने लगा था और किसी को भी विभाग में कोई काम होता था, तो वह रेड्डी की सेवा लेता था। उसको चढ़ावा दिए बिना कोई भी फाइल आगे नहीं बढ़ सकती थी। इस गाढ़ी कमाई की वजह से वह बार-बार प्रमोशन लेने से इंकार करता रहा।