फिक्सिंग के कीचड़ में फिर फंसा पाकिस्तान, इस क्रिकेटर पर लगा एक साल का बैन

नई दिल्ली (12 दिसंबर): स्पॉट फिक्सिंग प्रकरण में जांचकर्ताओं से सहयोग नहीं करने पर पूर्व सलामी बल्लेबाज नासिर जमशेद पर एक साल का प्रतिबंध लगाया है। जमशेद ने कथित तौर पर खिलाड़ियों और कथित सट्टेबाज के बीच सहयोगी की भूमिका निभाई थी। इस क्रिकेटर ने सभी आरोपों से इनकार किया था।

स्पॉट फिक्सिंग में नासिर जमशेद का मामला ज्यादा पेचीदा था। इसलिए पीसीबी ने इस ख़िलाड़ी को लेकर सभी जांच हो जाने का इंतजार किया। इस साल फरवरी में जमशेद को यूनाइटेड किंगडम से गिरफ्तार किया गया लेकिन उन्हें बाद में जमानत पर छोड़ दिया गया था। इस मामले को लेकर पीसीबी के क़ानूनी सलाहकार तैफुजुल रिज़वी ने रिपोर्टर्स से बातचीत करते हुए कहा कि नासिर पर लगे सभी आरोप अभी तक जाँच की प्रक्रिया में थे और सभी आरोप आज सिद्ध हो गए है और उन्हें न्यायलय के द्वारा एक साल के लिए बैन किया जा रहा है।

आपको बता दें कि पीसीबी के एंटी करप्शन ट्राइब्यूनल की शिकायत है कि जमशेद को फिक्सिंग मामले की सभी जानकारी थी। इसके बावजूद भी जमशेद ने एंटी करप्शन ट्राइब्यूनल को सहयोग नहीं दिया और उनसे काफी बातें छिपाकर रखा। जानकारी होने के बाद भी सहयोग ना करने से नाराज बोर्ड ने उन पर एक साल तक क्रिकेट ना खेलने का बैन लगा दिया है। हालांकि बोर्ड के इस फैसले से पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर खुश नहीं हैं। पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर सिकंदर बख्त ने एक टीवी चैनल से बात करते हुए कहा कि ‘मैं बोर्ड के इस फैसले से बिल्कुल खुश नहीं हूं’। बख्त ने कहा कि ये सजा काफी नहीं है।