अब जन्म प्रमाणपत्र के रूप में पैन कार्ड, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर कार्ड और LIC की पॉलिसी भी होंगे मान्य

नई दिल्ली (23 दिसंबर): पासपोर्ट तक आम आदमी की सीधी पहुंच बनाने के लिए सरकार ने इसके नियम में भारी बदलाव किया है। इसके तहत अब सरकार ने पासपोर्ट के आवेदन के साथ पैन कार्ड, आधार कार्ड, पेंशन आर्डर, ड्राइविंग लाइसेंस, चुनाव पहचान पत्र, एलआइसी की पॉलिसी बांड्स में लिखित जन्म दिन को जन्म प्रमाण पत्र को मान्यता दी जाएगी। इस बारे में घोषणा करते हुए विदेश राज्य मंत्री वी के सिंह ने कहा कि पासपोर्ट के नियमों को आसान बनाने के लिए एक अंतर मंत्रालीय समिति बनाई गई थी और उसकी सिफारिशों के आधार कई कदम उठाये गये हैं। सरकार की मंशा है कि पासपोर्ट बनाने के लिए दुनिया के बेहतरीन देशों के स्तर पर हो और हर भारतीय को आसानी से पासपोर्ट मिल जाए।

पासपोर्ट के नियम में बड़े बदलाव...

- कई तरह के प्रपत्रों को जन्म दिन प्रमाणपत्र के तौर पर मिली मान्यता

- आधार कार्ड, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, चुनाव पहचान पत्र, एलआइसी के बांड्स को माना जाएगा जन्म प्रमाण पत्र

- सिंगल पैरेंट के बच्चों को भी मिलेगा पासपोर्ट

- शादीशुदा आवदेकों के लिए शादी का प्रमाण पत्र देना जरुरी नहीं

- तलाकशुदा आवेदकों के लिए पूर्व पति या पत्नी का नाम बताना जरुरी नहीं

- अविवाहित मां के बच्चों के पासपोर्ट बनाने के नियम भी आसान

- साधु, सन्यासियों के पासपोर्ट में मां-बाप के नाम की जगह अध्यात्मिक गुरू का नाम भी हो सकता दर्ज