सुप्रीम कोर्ट ने  इच्छामृत्यु पर मुहर लगाते वक्त इस गाने का किया जिक्र

नई दिल्ली (9 मार्च): सुप्रीम कोर्ट में खास परिस्थिति में इच्छामृत्यु पर अपनी मुहर लगा दी है। सुप्रीम कोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए साफ किया कि गरिमा के साथ मौत एक मौलिक अधिकार है। इसके साथ ही शीर्ष अदालत ने निष्क्रिय इच्छा मृत्यु और लिविंग विल को कानूनन वैध ठहराया है। इस संबंध में अदालत ने विस्तृत दिशानिर्देश भी जारी करते हुए कहा है कि जब तक सरकार इस संबंध में कानून नहीं बना देती, तब तक ये दिशानिर्देश लागू रहेंगे।

अपने इस ऐतिहासिक फैसले के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने मुकद्दर का सिकंदर फिल्म के गाने 'रोते हुए आते हैं सब, हंसता हुआ जो जाएगा। वो मुकद्दर का सिकंदर, जानेमन कहलाएगा' का भी जिक्र किया।

रोते हुए आते हैं सब, हँसता हुआ जो जाएगा। वो मुकद्दर का सिकंदर, जानेमन कहलाएगा।। सुप्रीम कोर्ट ने #PassiveEuthanasia और #Livingwill को अनुमति देने वाले फैसले में इस गाने को कोट किया है। pic.twitter.com/FvxVJOeVx9

— Prabhakar Mishra (@PMishra_Journo) March 9, 2018