हवाई यात्रियों पर लगने वाले यात्री सुरक्षा शुल्क में हो सकती है बढ़ोत्तरी

नई दिल्ली (21 अगस्त): यात्री सुरक्षा शुल्क (पीएसएफ) में वृद्धि हो सकती है। हवाई यात्रियों पर लगाये जाने वाले यात्री सुरक्षा शुल्क (पीएसएफ) में मामूली वृद्धि की जा सकती है, क्योंकि हवाईअड्डों की सुरक्षा पर बढ़ती लागत को देखते हुये गृह और नागर विमानन मंत्रालय के लिये इसे संभालना मुश्किल हो रहा है।

दोनों मंत्रालयों में इस बात को लेकर मतभेद हैं कि हवाईअड्डों की सुरक्षा पर आने वाला खर्च कौन वहन करे और नागर विमानन मंत्रालय दलील देता रहा है कि यह केंद्र सरकार की जिम्मेदारी है कि वह सुरक्षा मुहैया कराये क्योंकि यह एक संप्रभु कार्य है।

इस पूरे मामले की जानकारी रखने वाले एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा कि गृह मंत्रालय ने देश में संचालित हो रहे 98 हवाईअड्डों की सुरक्षा पर आने वाली वास्तविक लागत पता लगाने के लिये एक समिति गठित की थी जबकि नागर विमानन मंत्रालय यह पता लगायेगा कि वह पीएसएफ, कार पार्किंग सुविधाओं और सभी हवाईअड्डों पर किराये से कितना राजस्व जुटा सकता है।

एक अन्य अधिकारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर कहा कि अगर राजस्व से लागत पूरी नहीं निकलती तो इस बात की संभावना है कि भविष्य में पीएसएफ को आंशिक रूप से बढ़ा दिया जायेगा क्योंकि हवाईअड्डा सुरक्षा की बढ़ती लागत को संभालना मुश्किल होता जा रहा है।

प्रत्येक विमान यात्री पर करीब 150 रुपये पीएसएफ लगता है। अभी हवाईअड्डों पर सुरक्षा मुहैया कराने के लिये हवाईअड्डा संचालकों को केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल सीआईएसएफ को करीब 800 करोड़ रुपये देने हैं।