पार्थिव पटेल ने रचा इतिहास, सहवाग बोले- छोटा चेतन

नई दिल्ली (15 जनवरी): पार्थिव पटेल ने बीसीसीआई के तीनों फॉर्मेट का खिताब जीतकर नया रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है। पार्थिव की इस कामयाबी के बाद हर कोई उनकी तारीफ कर रहा है। धोनी इंटरनेशन क्रिकेट में हासिल कर चुके हैं हर कामयाबी और पार्थिव घरेलू क्रिकेट में धोनी की तरह हुए हैं कामयाब।

रणजी घरेलू क्रिकेट में 5 दिन का मुकाबला होता है, वहीं विजय हजारे ट्रॉफी बीसीसीआई का 50 ओवर का गेम है जबकि सैयद मुश्ताक अली टी-20 बीस ओवर के फॉर्मेट में खेला जाता है। पार्थिव की कप्तानी में गुजरात की टीम 2014-5 में सैयद मुश्ताक अली टी-20 का खिताब जीतने में कामयाब हुई थी, जबकि 2015-16 के सीजन में पार्थिव ने बीसीसीआई के 50 ओवर वाले विजय हजारे ट्रॉफी पर कब्जा जमाया था और अब रणजी इतिहास में पहली बार पार्थिव की कप्तानी और बल्लेबाजी की बदौलत गुजरात की टीम रणजी का खिताब जीतने का कारनामा कर दिखाया। घरेलू क्रिकेट के तीनों खिताब जीतने वाले पार्थिव पटेल पहले कप्तान बन गए हैं।

पार्थिव पटेल की इस कामयाबी पर सहवाग ने अपने अंदाज में उन्हें बधाई दी है। नाईकी से पार्थिव ने कर दिया इतना बड़ा कमाल छोटा पैकेट बड़ा धमाका, ''छोटा चेतन गुजरात हेल्पस विन।'' साफ है कि पार्थिव पटेल ना सिर्फ अपनी कप्तानी से बल्कि अपनी बल्लेबाजी से भी कमाल कर रहे हैं। रणजी फाइनल की पहली पारी में पार्थिव ने जहां 90 रनों की पारी खेली और वही दूसरी पारी में पार्थिव ने 143 रनों की पारी खेल कर टीम की जीत तय कर दी।

साल 2002 में सिर्फ 17 साल की उम्र में इंटरनेशल क्रिकेट में डेब्यू करने वाले पार्थिव को जब पिछली सीरीज में रिद्दीमान साहा की जहग खेलने का मौका मिला था तो फिर इंग्लैंड के खिलाफ पार्थिव ने टीम इंडिया के लिए शानदार बल्लेबाजी की। कही से ये नहीं लग रहा था कि पार्थिव 2008 के बाद पहली बार कोई टेस्ट मैच खेल रहे हैं।