पूर्व रक्षा मंत्री का बड़ा खुलासा, 15 महीने पहले बना था 'सर्जिकल स्ट्राइक' का प्लान

पणजी (1 जुलाई): पाकिस्तान के खिलाफ 29 सितंबर 2016 को हुए 'सर्जिकल स्ट्राइक' के बारे में तत्कालीन रक्षामंत्री मनोहर पार्रिकर ने बड़ा खुलासा किया है। पूर्व रक्षा मंत्री और गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर परिकर ने कहा है कि PoK में आतंकियों के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक की योजना 15 महीने पहले बनाई गई थी और इसके लिए इस ऑपरेशन में शामिल सैनिकों को स्पेशल ट्रेनिंग भी दी गई थी। पार्रिकर ने कहा कि मीडिया के अपमानजनक सवाल की वजह से पाकिस्तान के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक की गई। उन्होंने कहा कि मीडिया ने ही पाकिस्तान के खिलाफ बड़ी कार्रवाई के लिए जमीन तैयार करवाई।


पणजी में उद्योगपतियों को संबोधित करते हुए पर्रिकर ने कहा केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ से एक टीवी एंकर ने आपत्तिजनक सवाल पूछे थे। एंकर के सवाल के बाद ही पीओके में आतंकियों के ठिकानों पर कार्रवाई के लिए रणनीति तैयार की गई। उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्री के तौर पर मुझे ये बेहद अपमानजनक लगा। 200 लोगों के छोटे से आतंकी संगठन ने 18 डोगरा सैनिकों को निशाना बनाया। यह भारतीय सेना का अपमान था।पूर्व रक्षा मंत्री ने ये भी बताया कि किस तरह से सर्जिकल स्ट्राइक की रणनीति बनाई गई। उन्होंने कहा कि हम दोपहर में बैठे। हमने शाम को भी मीटिंग की और पहले सर्जिकल स्ट्राइक की योजना बनाई, जिसे 8 जून की सुबह अंजाम दिया गया। इस हमले में 70 से 80 आतंकी मारे गए।'

 

पर्रिकर ने कहा कि केन्द्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ से एक टीवी एंकर ने पूछा था कि क्या आपमें देश के पश्चिमी मोर्चे पर भी ऐसा करने का साहस एवं क्षमता है। पूर्व रक्षा मंत्री ने कहा कि उन्होंने तब ध्यान से सवाल सुना लेकिन इसका जवाब सही समय पर देने का फैसला किया।


आपको बता दें की भारतीय सेना ने पिछले साल उरी हमले के 11 दिन बाद 29 सितंबर को नियंत्रण रेखा के पार आतंकी ठिकानों पर सर्जिकल हमले किए थे। इस हमले भारतीय सेना ने PoK में घुसकर कई पाकिस्तानी पोस्ट को तबाह कर दिया था। पाकिस्तानी सेना उन पोस्टों का इस्तेमाल आतंकियों को भारत में घुसपैठ करने के लिए इस्तेमाल करता था।