नोटबंदी के मुद्दे पर संसदीय समिति ने आरबीआई गर्वनर उर्जित पटेल को फिर बुलाया

नई दिल्ली ( 20 अप्रैल ): नोटबंदी के मामले में रिजर्व बैंक (आरबीआइ) के गवर्नर उर्जित पटेल को संसदीय समिति ने एक बार फिर से बुलाया है। संसदीय समिति ने 25 मई को समिति के सामने पेश होने के लिए कहा है। इसमें सांसद उनसे यह सवाल पूछ सकते हैं कि नोटबंदी के चलते कितनी राशि बैंकिंग सिस्टम में वापस आई है।


उनसे यह भी पूछा जा सकता है कि बैंकों का कामकाज कब सामान्य होगा। इससे पहले जनवरी में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पटेल को समिति के समक्ष फिर से बुलाने के लिए भाजपा सांसदों को मनाया था। दिलचस्प है कि पटेल जब वित्त मामलों पर संसद की स्थायी समिति के समक्ष इस साल जनवरी में पेश हुए थे, तो उनसे कई अटपटे सवाल किए गए थे।


उस वक्त खुद आरबीआइ गवर्नर रह चुके मनमोहन उनके बचाव में आए थे। पूर्व प्रधानमंत्री ने समिति के सदस्यों को समझाया था कि गवर्नर का सम्मान किया जाए। उनसे अटपटे सवाल नहीं पूछे जाएं। समिति के सदस्यों के मुताबिक पटेल से कहा गया है कि वह फिर से पेश हों और सदस्यों को नोटबंदी के बारे में बताएं, क्योंकि इस बारे में अभी चर्चा पूरी नहीं हुई है।


समिति के एक सदस्य ने कहा, 'निशिकांत दुबे समेत भाजपा के सदस्य समिति के सामने आरबीआइ गवर्नर की पेशी के पक्ष में नहीं थे। मगर मनमोहन के नेतृत्व में विपक्षी सदस्यों के जोर देने पर पटेल को बुलाने का फैसला किया गया।'


कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एम वीरप्पा मोइली के नेतृत्व वाली समिति ने नोटबंदी के मसले पर आरबीआइ के शीर्ष अफसरों के अलावा वित्त मंत्रालय के अधिकारियों को भी बुलाया था। इसका मकसद पांच सौ व हजार रुपये के नोट बंद करने के फैसले और इसके असर को लेकर चर्चा करना था।