संसद में 'महिषासुर' पर हंगामा, स्मृति बोलीं, मैं भी मां दुर्गा की पूजा करती हूं

नई दिल्ली(26 फरवरी) एचआरडी मिनिस्टर स्मृति ईरानी के महिषासुर पर दिए बयान पर राज्यसभा में हंगामा हो गया है। कांग्रेस ने कहा है कि यदि ईरानी अपने बयान पर माफी नहीं मांगती हैं, तो वह सदन को नहीं चलने देंगे।

विपक्ष ने एचआरडी मिनिस्टर के बयान को संसद की कार्यवाही से हटाने की भी मांग की। स्मृति बोलीं मैं भी मां दुर्गा की पूजा करती हूं।  

updates...

- स्मृति ईरानी ने कहा कि मैंने यहां जो भी पढ़ा, वे जेएनयू के ऑफिशियल डॉक्यूमेंट्स हैं। ये सरकार के पेपर नहीं हैं। 

- सीपीएम के सीताराम येचुरी ने भी स्मृति ईरानी से मां दुर्गा का अपमान करने वाला बयान वापस लेने की मांग की।

- जेडीयू के नेता अली अनवर ने कहा कि रोजाना कई पम्फलेट्स बांटे जाते हैं, तो क्या राज्यसभा में सभी को पढ़कर लोगों के सेंटीमेंट को हर्ट किया जाएगा।

- जवाब में बीजेपी के मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा - जेएनयू में जो हो रहा था वो देश के खिलाफ था।

- गुलाम नबी आजाद बोले- दुनिया भर में इस तरह के विवादी पर्चे बंटते हैं पर हम उन्हें संसद में नहीं पढ़ते।

- आजाद ने कहा कि इसे संसद की कार्रवाई से निकाल देना चाहिए।

- स्मृति ईरानी ने जवाब देते हुए कहा कि उन्होंने ऐसा सबूत के लिए किया।

- जेडीयू के केसी त्यागी ने भी ऐसी ही मांग की।

- कांग्रेस ने स्मृति ईरानी ने माफी की मांग कर रही है। उसने साफ कहा है कि यदि मिनिस्टर अपने बयान को वापस नहीं लेती तो वह सदन की कार्यवाही नहीं चलने देगी।

- बीजेपी सांसद अनुराग ठाकुर ने लोकसभा में अफजल गुरु पर चिंदबरम के बयान को लेकर चर्चा करने का नोटिस दिया है। बता दें कि चिंदबरम ने कहा था कि उसे (अफजल) फांसी देने का फैसला सही नहीं था।

- केंद्रीय मंत्री वेकैंया नायडू ने कहा कि कांग्रेस को 2 अहम मुद्दों पर सफाई देना चाहिए। पहला इशरत जहां और दूसरा अफजल गुरु पर।

क्या है पूरा विवाद

राज्यसभा में गुरुवार को जेएनयू विवाद और रोहित वेमुला सुसाइड केस पर बहस चल रही थी। इस दौरान स्मृति ईरानी ने अपनी स्पीच में जेएनयू में महिषासुर जयंती पर हुए एक प्रोग्राम का हवाला दिया। उन्होंने कहा कि वहां (जेएनयू) में मां दुर्गा और महिषासुर के विषय में आपत्तिजनक पोस्टर लगाए गए। इसके बाद स्मृति इस पोस्टर, पैम्फलेट के कंटेंट को पढ़कर सुनाने लगीं। इस पर लेफ्ट और विपक्षी मेंबर्स ने हंगामा शुरू कर दिया। इसके बाद सदन के कार्यवाही शुक्रवार तक के लिए टाल दी गई।

कांग्रेस ने स्मृति ईरानी के पैम्फलेट पढ़ने के मामले में स्मृति से माफी की मांग की है। आनंद शर्मा ने कहा कि यह गलत परंपरा है और अगर मंत्री माफी नहीं मांगती हैं तो इसका सदन की कार्यवाही पर असर पड़ेगा।