सैफुल्ला के पिता पर नाज: संसद में बोले राजनाथ

नई दिल्ली(9 मार्च): संसद के बजट सेशन का दूसरा पार्ट गुरुवार से शुरू हो गया है। इससे पहले सुबह पीएम ने उम्मीद जताई की इस सेशन में चर्चा का स्तर बेहतर रहेगा और जीएसटी का रास्ता साफ होगा। राज्यसभा की कार्यवाही दिवंगत सांसदों को श्रृद्धांजलि देने के बाद पूरे दिन के लिए स्थगित हो गयी। वहीं, लोकसभा में एमपी ट्रेन ब्लास्ट, लखनऊ एनकाउंटर और यूएस में भारतीयों पर हुए हमले मुद्दे पर बहस हुई। इस दौरान होम मिनिस्टर राजनाथ सिंह ने बयान भी दिए।

- उन्होंने बताया कि इस पूरे मामले की जांच एनआईए करेगी। वहीं, उन्होंने लखनऊ में मारे गए सैफुल्लाह के पिता के बयान का हवाला भी दिया। उन्होंने कहा कि सरकार को उन पर नाज है। बता दें कि सरताज ने अपने बेटे की लाश लेने से मना करा दिया है।

- राजनाथ सिंह ने अपने बयान में कहा, ''एटीएस ने कानपुर, लखनऊ, इटावा और मध्य प्रदेश के कई शहरों से 6 आतंकियों को गिरफ्तार किया गया। सैफुल्ला ने एटीएस पर फायरिंग की। उसके बाद ही कार्रवाई की गई है। पूरा घटनाक्रम राज्य पुलिस और केंद्रीय एजेंसियों के बीच तालमेल की अच्छी मिसाल है। दोनों राज्यों की पुलिस ने फौरन कार्रवाई की और देश पर आने वाली बड़ी परेशानी को टालने में कामयाबी हासिल की।"

- "इस पूरे मामले की जांच एनआईए करेगी। मैं यहां पर इस बात को बताना भी आवश्यक समझता हूं कि जब उत्तर प्रदेश पुलिस सैफुल्लाह, जो मारा गया है उसके पिता सरताज से मिली और उसकी लाश को सौंपने की बात कही, तब उसके पिता ने कहा- जो देश का न हुआ मेरा कैसे हो सकता है? उसने कोई सही काम तो किया नहीं। मुझे उसका मरा हुआ मुंह तक नहीं देखना है। मैंने पूरी जिदंगी मेहनत की और परिवार को पाला है। लेकिन सैफुल्लाह ने मुझे शर्मिन्दा कर दिया। हर किसी के लिए देश पहले है। वह देश का नहीं हो सका इसलिए वह मेरा भी नहीं हो सकता है।"

- "इसलिए मैं सरकार की तरफ से भी सरताज के प्रति पूरी सहानुभूति व्यक्त करता हूं। मैं समझता हूं कि पूरा सदन सैफुल्लाह के पिता सरताज के प्रति सहानुभूति व्यक्त करे।"