खुदकुशी करने वाले इंस्पेक्टर के परिवार का एक IPS पर संगीन आरोप

नई दिल्ली ( 13 मई ): डीआईयू सेल में इंस्पेक्टर कौशल गांगुली ने दो पहले अपनी सर्विस रिवाल्वर से खुदकुशी कर ली थी। अब इस मामले में नया मोड़ आ गया। कौशल के परिजनों का आरोप है कि जिले के एक आईपीएस अधिकारी पिछले कुछ माह से कौशल को परेशान कर रहे थे। उसे कई बार अपमानित भी किया गया। इससे वह पिछले कुछ समय से तनाव में थे। कौशल की मौत के लिए परिजन वरिष्ठ अधिकारी को ही जिम्मेदार ठहरा रहे हैं।


इंस्पेक्टर कौशल गांगुली की पत्नी लवली गंगुली ने बताया कि वह बीते दिसंबर से ही परेशान थे। उन्होंने बताया था कि वरिष्ठ अधिकारी उन्हें अपमानित करते हैं। वह कहते हैं कि तुम्हे कोई काम नहीं आता। उनका तबादला डीसीपी कार्यालय से डीआईयू सेल में हो गया। मगर वहां भी उन्हें परेशान किया जा रहा था। उन्हें ऐसी फाइलें जांच के लिए सौंपी गई जो काफी पुरानी थीं। उनके ऊपर इन फाइलों को जल्द से जल्द पूरा करने का दबाव डाला जा रहा था। इसके चलते वह परेशान रहते थे। कुछ दिन पहले उन्होंने नौकरी छोड़ने की इच्छा भी जताई थी।


कौशल गांगुली के परिवार का आरोप है कि साउथ ईस्ट डिस्ट्रिक्ट जिले के आईपीएस अधिकारी राजीव रंजन पिछले कुछ महीनों से उन्हें परेशान कर रहे थे। इसी बात से तंग आकर कौशल ने खुदकुशी जैसा कदम उठाया है।

परिजनों ने पुलिस द्वारा पारिवारिक कारण एवं प्रॉपर्टी को लेकर कलह की बात से साफ इनकार किया है। उनका कहना है कि पुलिस अधिकारी लीपापोती करने के लिए इस तरह की बातें कर रहे हैं। उनके घर-परिवार में ऐसी किसी बात को लेकर कोई झगड़ा नहीं चल रहा था।


परिवार का कहना है कि जिले के एडिशनल डीसीपी राजीव रंजन कई बार तो कौशल के साथ जाति सूचक शब्दों का इस्तेमाल भी किया करते थे। सब के सामने उनको गालियां दिया करते थे। जूनियर्स के आगे उन्हें अपमानित भी किया जाता था। कौशल इस बात से काफी तनाव में रहते थे।


दरअसल, कौशल गंगौली 1997 में दिल्ली पुलिस में भर्ती हुए थे। 6 दिसम्बर 2016 को बतौर इंस्पेक्टर उनका प्रमोशन हुआ था जिसके बाद उन्हें एक्स ब्रांच में तैनात किया गया था। परिवार का कहना है कि ट्रांसफर के कुछ दिन बाद से ही अधिकारी ने उन्हें परेशान करने लगा था। कौशल अपने परिवार को ये बातें अक्सर बताया करते थे।