ट्विटर पर भिड़े फडणवीस-पंकजा, जलाए गए फडणवीस के पुतले

मुंबई (10 जून): महाराष्ट्र मंत्रिमंडल विस्तार से बीजेपी में महासंग्राम शुरू हो गया है। सरकार में नंबर दो की हैसियत आरएसएस के करीबी चंद्रकांत दादा पाटिल को मिल गई है। वहीं दो सबसे ताकतवर मंत्री पंकजा मुंडे और विनोद तावड़े से उनके एक-एक मंत्रालय छीन लिए गए हैं। इसे लेकर पंकजा मुंडे के नाराज समर्थकों ने सीएम देवेंद्र फडणवीस के पुतले जलाए।

सेल्फी से लेकर चिक्की के चिकचिक में फंसी पंकजा को जलसंसाधन विभाग से हाथ धोना पड़ा, वहीं तावड़े से चिकित्सा शिक्षा मंत्रालय छीन लिया गया। पंकजा अपनी लड़ाई ट्विटर पर ले गईं और लिखा, ''सिंगापुर में हो रहे वर्ल्ड वॉटर लीडर समिट में मुझे हिस्सा लेना था, लेकिन चूंकि मेरा मंत्रालय हटा लिया गया है इसलिए अब मैं इस समिट में हिस्सा नहीं ले रही हूं’।

पंकजा के पलटवार से रूस यात्रा पर गए मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने भी ट्वीट से ही उन्हें समझाया। सीएम फडणवीस ने पंकजा के ट्वीट पर जवाब देते हुए लिखा, सीनियर नेता होने के नाते महाराष्ट्र सरकार के प्रतिनिधी के तौर पर आपको वर्ल्ड वॉटर लीडर समिट में हिस्सा लेना चाहिए।

हालांकि ट्वीट पर टकराव के बाद पंकजा मीडिया के सामने नहीं आ रही हैं। तावड़े भी कैमरों को टाल रहे हैं। लेकिन सूत्रों के मुताबिक फेरबदल से कई मंत्री नाराज़ हैं, जिनमें नए नवेले राज्यमंत्री बने मदन येरावर भी शामिल हैं, जिन्हें राज्यमंत्री के बजाए कैबिनेट मिलने की उम्मीद थी।