इसलिए रात के 12 बजे हुई देश की आजादी की घोषणा

नई दिल्ली (9 अगस्त): आजादी के 70 साल पूरे होने जा रहे हैं। भले ही देश को 15 अगस्त 1947 को आजादी मिली, लेकिन इसका जश्न 14 अगस्त को ही मनने लगा था। इसके पीछे एक बड़ी वजह‍ भी थी, जिसके बारे में शायद कोई बात नहीं करता।

बताया जाता है कि आजादी की तारीख भले ही 15 अगस्त मुकरर्र कर दी गई थी, लेकिन कुछ ज्योतिषों ने इस तारीख को शुभ नहीं माना था। इसलिए रात के 12 बजे आजादी का ऐलान कर दिया गया। इसी रात को देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने ऐसा भाषण दिया, जो भविष्‍य के सपनों में गुथा हुआ, अतीत के संघर्षों से निकला हुआ और वर्तमान की जद्दोजहद से लड़ता हुआ था। पंडित नेहरू के इस भाषण में भावुकता भी थी और जुझारू के तेवर वाले अहसास भी थे।

15 अगस्त को नेहरू लाल किले पहुंचे और जोकुछ संसद के सेंट्रल हॉल में कहा था, वह सबकुछ उन्होंने खुले आसमान के नीचे जनता से कहा। सिर्फ दिल्ली में ही 300 जगहों पर ब्रिटिश झंडे को उतारकर तिरंगा लहराया गया।