कैसे बचेगी 20 हजार टैक्सीवालों की रोजी-रोटी?

नई दिल्ली (2 मई): दिल्ली में डीजल टैक्सियों पर लगे बैन का असर आज ये हुआ कि एक तरफ तो टैक्सियों की डिमांड पूरी नहीं हुई और दूसरे बैन के विरोध में डीजल टैक्सी वालों ने जगह-जगह जाम लगा दिया। नतीजा, दिल्ली की सांस फूल गई।

दरअसल राजधानी से प्रदूषण कम करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने डीजल टैक्सियों पर बैन लगा दिया है। इसका एक असर ये भी हुआ है कि लाखों लोगों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है यानि एक तरफ प्रदूषण का खतरा है, दूसरी तरफ डीजल टैक्सी वालों के पेट का सवाल है तो इधर टैक्सीवालों के जाम से परेशान दिल्ली।

इसीलिए हमारा आजका सबसे बड़ा सवाल है कि दिल्ली को बंधक बनाना टैक्सीवालों की ब्लैकमेलिंग है? कैसे बचेगी 20 हजार टैक्सीवालों की रोजी-रोटी?  टैक्सी संकट का जिम्मेदार कौन- केंद्र या केजरीवाल?

पांच की पंचायत लाइव:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=pdk9kLiTRIY[/embed]