फंस गए #NawazSharif! #PanamaLeaks मामले में #Pakistan सुप्रीम कोर्ट ने दिए जांच के आदेश, कुर्सी जाना तय

डॉ. संदीप कोहली,

नई दिल्ली (1 नवंबर): पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की मुश्किलें बढ़ गई हैं। पहले सेना ने दिया था अल्टीमेटम अब सुप्रीम कोर्ट ने दिए जांच के आदेश। अब शरीफ की 'शराफत' की जांच उच्च अधिकार प्राप्त आयोग करेगा। मंगलवार को मामले की सुनवाई के दौरान पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने यह आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा है जांच के लिए शर्ते वो तय करेगा और मॉनिटरिंग भी करेगा। साथ ही आयोग के पास सुप्रीम कोर्ट की सारी शक्तियां होंगी। इस आदेश के बाद तहरीक-ए-इंसाफ के अध्यक्ष इमरान खान ने 2 नवंबर को इस्लामाबाद बंद करने के ऐलान को वापस ले लिया है। अब इमरान बुधवार को अब शुक्राना दिवस यानि थैंक्स गिविंग डे का जश्न मनाएंगे। गौरतलब है कि पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट में नवाज शरीफ और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ ‘पनामा पेपर्स’ लीक मामले में केस चल रहा है। इस मामले में कोर्ट ने 20 अक्टूबर को नवाज के अलावा बेटी मरियम और बेटे हसन को भी नोटिस जारी किया, जिसमें पूछा कि विदेशों खासकर ब्रिटेन में कहां से आई इतनी प्रॉपर्टी?

इमरान का नवाज शरीफ पर आरोप... - इमरान का आरोप है नवाज और उनके फैमिली मेंबर्स ने गैरकानूनी तरीके से विदेशों में मनी ट्रांसफर किया। - नवाज फैमिली के ब्रिटेन में प्रॉपर्टी के सबूत भी पेश किए थे कैसे नवाज ने अरबों डॉलर की प्रॉपर्टी बनाई। 

पाक निर्वाचन आयोग ने भी मांगा था जवाब... - इससे पहले पाकिस्तान के निर्वाचन आयोग ने अगस्त महीने ने शरीफ को नोटिस भेजा था। - नवाज शरीफ को भेजे नोटिस में 20 दिन के अंदर जवाब देने को कहा गया था। - जिस पर शरीफ या उनकी पार्टी की और से कोई जवाब दाखिल नहीं किया गया।

क्या है पनामा पेपर लीक मामला और क्या है शरीफ पर आरोप... - अप्रैल में पनामा की लॉ फर्म के 1.15 करोड़ टैक्स डॉक्युमेंट्स लीक हुए। - अमेरिका के एक NGO खोजी पत्रकारों के अंतरराष्ट्रीय महासंघ (ICIJ) ने इसका खुलासा किया। - ये डॉक्युमेंट्स पनामा की कंपनी मोसाक फोंसेका के थे जिसे जर्मन अखबार ने छापा। - दुनिया भर के करीब 140 राजनेताओं, अरबपतियों की छिपी संपत्ति का भी खुलासा हुआ। - जांच में जो डेटा सामने आया, वो 1977 से लेकर 2015 तक लगभग 40 वर्षों का है।  - पनामा स्थित लॉ फर्म मोसैक फॉन्सेका से लीक ये दस्तावेज लीक हुए थे। - इसके कारण सवालों के घेरे में नवाज शरीफ और पाकिस्तान के कई बड़े नेता भी आए।  - पनामा लीक को लेकर पाकिस्तान में आयोग बनाया गया, जिसकी जांच सुप्रीम कोर्ट कर रहा है। - नवाज पर आरोप है कि उन्होंने जेद्दा में स्टील फैक्टरी लगाई और बाद में उसे गलत ढंग से बेचा। - मोसाक फोंसेका के जरिए उस काले धन को वैध कर ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड में लगाया।

सेना से भी चल रही है नवाज शरीफ की टकराहट... - मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से ही नवाज शरीफ और राहिल शरीफ में जबरदस्त टकराहट चल रही है।  - भारत के PoK में सर्जिकल ऑपरेशन के बाद यह झगड़ा चरम पर पहुंच गया है। - 6 अक्टुबर को पाकिस्तान के अखबार डॉन में छपी खबर के मुताबिक दोनों शरीफ आमने-समाने आ गए है। - यह खबर छपने के बाद डॉन के पत्रकार को सरकार और सेना ने काफी परेशान भी किया। - पत्रकार सिरिल अलमेडा की खबर के मुताबिक नवाज शरीफ ने जनरल शरीफ तो सबसे सामने सुनाया। - नवाज शरीफ ने राहिल शरीफ से साफ कहा कि जो हालात बनें उनमें पाकिस्तान दुनिया में अलग थलग पड़ा है। - सेना कोई भी कार्रवाई करे तो सरकार से राय विचार जरूर करे, एकतरफा कार्रवाई ना की जाए। - अगर सरकार की एजेंसियां बैन आतंकी संगठनों पर कार्रवाई करती है तो सेना कोई दखलअंदाजी ना करे। - एजाज चौधरी के प्रेंजेटेशन के बाद ISI चीफ जनरल रिजवान और शाहबाज शरीफ में हुई बहस। - ISI चीफ जनरल रिजवान ने जब कहा कि सरकार आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई कर सकती है। - इस पर पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ उबल पड़े, उन्होंने ISI चीफ पर ही ठीकरा फोड़ दिया। - उन्होंने कहा कि राज्य प्रवर्तन एजेंसियां जब आतंकियों को पकड़ती है तो ISI उन्हें आजाद करा देती है।