जश्न-ए-यंगिस्तान: न्यूज 24 ने मशहूर सिंगर पलक मुच्छल को किया सम्मानित


न्यूज 24 ब्यूरो,नई दिल्ली (24 नवंबर): न्यूज 24 के जश्न-ए-हिदुस्तान कार्यक्रम में मशहूर सिंगर पलक मुच्छल को सम्मानित किया गया। पलक मुच्छल बॉलीवुड की मखमली आवाज है। कई सुपरहिट गाने हैं जिसे पलक ने अपनी आवाज से सजाया। आशिकी 2, प्रेम रतन धन पायो , एम एस धोनी द अनटोल्ड स्टोरी, लवयात्रि समेत सैकड़ों फिल्में है जिसमें पलक की मीठी आवाज गूंजी। 




पलक ने मात्र 5 साल की उम्र से गाना शुरु कर दिया था। साथ ही वो समाजिक कार्यों से भी जुड़ी रही हैं और गरीबों की मदद करती रही हैं। साल 1999 में जब कारगिल की लड़ाई छिड़ी थी, तब उन्होंने शहीदों के परिवारों के लिए दुकानों और गली के नुक्कड़ों पर गाना गाकर चंदा इकट्ठा किया।



उसके बाद पलक अपने भाई पलाश के साथ विदेशों में स्टेज शो करने लगीं, उन स्टेज शो से वह जो भी पैसा कमाती थी, वह गरीब बच्चों को दान करती हैं। सन 2001 मे पलक ने गुज़रात के भूकंप पीडितों की सहायता के लिए 10 लाख रुपयों का चंदा ईकट्ठा किया। जुलाई 2003 में पलक ने पाकिस्तान की नागरीक बच्ची, जो ह्रदय रोग से पीडित थी और भारत में इलाज के लिए आई थी, उसके लिए वित्तीय सहायता की पेशकश की। 




दिसंबर 2006 तक पलक ने अपने धर्माध संगठन पलक मुच्छल हार्ट फाऊंडेशन के लिए कुल 1.2 करोड रुपयों की राशि इकट्ठा की थी जिससे 234 बच्चों का ऑपरेशन किया गया। जून 2009 तक पलक ने कुल 1.71 करोड रुपयों की राशि इकट्ठा कि की जिससे 338 बच्चों की जान बचायी जा सकी।


पलक मुच्‍छल का जन्म माहेश्वरी मारवाडी परिवार में 30 मार्च 1992 में मध्यप्रदेश इंदौर में हुआ था। उनके पिता का नाम राजकुमार मुच्छल जोकि एक संस्था में अकाउंटेंट हैं। उनकी मां का नाम अमित मुच्छल है। उनका एक छोटा भाई पलाश मुच्छल है। पलक को संगीत का शौक बचपन से ही था
। उन्होंने हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत की शिक्षा गृह की है। इसके साथ ही वह 17 भाषायों में पूर्ण रूप से पारंगत हैं। 


पलक ने अपनी हिंदी फ़िल्मी करियर की शुरुआत साल 2011 में फिल्म दमादम से की। उसके बाद उन्होंने "ना जाने कबसे", "एक था टायगर", "फ्रॉम सिडनी वुईथ लव", "आशिकी 2" और बंगाली फिल्म रॉकी के लिए गाने गाये। पलक को हिंदी सिनेमा में कामयाबी फिल्म "एक था टाइगर" और "आशिकी 2" से मिली।