पाकिस्तान का झूठ फिर बेनकाब, #Babur3 मिसाइल के परीक्षण वीडियो पूरा #Fake, जानिए

डॉ. संदीप कोहली,

नई दिल्ली (10 जनवरी): भारत ने एक हफ्ते अंदर अपनी टॉप दो मिसाइलों अग्नि-5 और अग्नि-4 का सफल परीक्षण क्या किया पाकिस्तान की रातों की नींद और दिन का चैन उड़ गया है। पाकिस्तान इस कदर बेचैन हो उठा है कि भारत को दिखाने के लिए उसने अपनी सबमरीन से क्रूज मिसाइल के परीक्षण का दावा किया। लेकिन मिसाइल लॉन्‍च के चंद घंटों बाद ही उसका झूठ पूरी दुनिया के सामने आ गया। पाकिस्तान जिस वीडियो के जरिए मिसाइल परीक्षण का दावा कर रहा है वो वीडियो फर्जी है। जी हां वीडियो कंप्‍यूटर ग्राफिक्‍स की मदद से बनाया गया है जो पूरा फर्जी है। चीन की शह पर भारत से टक्कर लेने की कोशिश कर रहे पाकिस्तान ने सोमवार को दावा किया था कि उसने पनडुब्बी से लॉन्‍च करने वाली क्रूज मिसाइल बाबर-3 का सफल परीक्षण किया है। पाकिस्‍तान के इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (ISPR) के डायरेक्‍टर जनरल, मेजर जनरल आसिफ गफूर ने वीडियो जारी कर मिसाइल लॉन्‍च की जानकारी ट्विटर पर दी थी। इस परीक्षण के बाद पाकिस्तानी मीडिया फूली नहीं समा रही, इसे पाकिस्तान की बहुत बड़ी कामयाबी के रूप में दिखाया जा रहा है। लेकिन पाकिस्तान के इस झूठ के गुब्बारें की हवा भारतीय सैटेलाइट और मिसाइल विशेषज्ञों ने निकाल कर रख दी है। 

पाकिस्तान कैसे दुनिया के सामने 'सफेद झूठ' बोल रहा है जानिए-

    *पाकिस्तान ने सोमवार को सबमरीन से मिसाइल फायर करने का दावा किया।

    *पाक सेना ने मिसाइल फायर करने का वीडियो भी अपलोड किया।

    *बताया जा रहा कि इस मिसाइल को हिंद महासागर में किसी गुप्‍त स्‍थान से छोड़ा गया।

    *पाकिस्तान के अखबार द नेशन ने यह दावा किया है।

    *ध्यान से पढ़िए, हिंद महासागर में किसी गुप्‍त स्‍थान, पूरी जानकारी पढ़ते जाइए।

    *भारत के रक्षा विशेषज्ञों ने वीडियो की प्रमाणिकता की जांच की।

    *वीडियो को पूरा फर्जी बताया गया,इसे कंप्‍यूटर ग्राफिक्‍स की मदद से बनाया गया।

    *पाकिस्‍तान ने बैकग्राउंड पर कंप्‍यूटर द्वारा बनाई गई मिसाइल की तस्‍वीर लगाई हैं।

    *वीडियो में मिसाइल का रंग सफेद से नारंगी हो जाता है।

    *कई विशेषज्ञों ने मिसाइल की स्‍पीड को बहुत ज्‍यादा बताया है।

    *सैटेलाइट इमेजरी एनालिस्‍ट ने भी वीडियो की प्रमाणिकता पर संदेह जताया।

    *सैटेलाइट एनालिस्ट @rajfortyseven ने अपने ट्विटर हैंडल से कई ट्वीट किए।

    *राज का कहना है कि बाबर-3 की जियो लोकेशन में गड़बड़ी सामने आई है।

    *कैसे हम आपको बताते हैं, हमने ऊपर लिखा द नेशन ने यह दावा किया है।

    *हिंद महासागर में किसी गुप्‍त स्‍थान से छोड़ी गई है मिसाइल।

    *हजारों किमी तय कर अरब सागर पार कर पाकिस्तान के एक स्थान पर गिरी।

    *अगर लोकेशन सही तो मिसाइल 8 सेकंड में 15 किमी मूव कर रही है।

    *यानी वीडियो में दिखाई गई तस्वीरों से अंदाजा लगाया जा सकता है।

    *मिसाइल 6750kmph रफ्तार उड़ रही है, जो संभव ही नहीं है।

    *बाबर-3 की टॉप स्पीड 880kmph है, जो पाकिस्तान का खुद दावा है।

    *बाबर-3 एक क्रूज मिसाइल है और जमीन से दागा जाता है।

    *ये पाकिस्तान की पहले टेस्ट की जा चुकी बाबर-2 का अपडेटड वर्जन है।

    *पाकिस्तान का दावा है कि बाबर-3 मिसाइल की रेंज 700 किलोमीटर है।

मिसाइल ताकत में पाकिस्तान हमारे सामने कहीं नहीं टिकता...

    * भारतीय सेना के पास अग्नि, पृथ्वी, आकाश और नाग जैसी आधुनिक मिसाइलें हैं।

    * यही नहीं भारत के पास ब्रह्मोस जैसी सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है।

    * जो 5 मिनट में 290 किमी के टारगेट को बर्बाद कर सकती है।

    * इसके अलावा भारत के पास जमीन से हवा में मार करने वाली बराक-8 मिसाइल भी है।

    * बराक-8 मिसाइल 70 किमी के दायरे में किसी भी मिसाइल को हवा में भी नष्ट कर सकती है।

    * भारत ने अग्नि-5 जो सबसे आधुनिक और घातक मिसाइल है, विकसित कर ली है।

    * अग्नि-5 एक इंटर कॉन्टिनेटल बैलिस्टिक मिसाइल है।

    * वहीं पाकिस्तान के पास गौरी, शाहीन, गजनवी, हत्फ और बाबर जैसी मिसाइलें हैं।

    * लेकिन पाकिस्तान के पास जो मिसाइल हैं उनकी तकनीक काफी पुरानी है।

    * पाकिस्तान मिसाइल टेक्नोलॉजी के मामले में चीन पर ज्यादा निर्भर है।

चीन दे रहा है पाकिस्तान को 'Nuclear Bomb' बनाने में मदद...

    * चीन ने पाकिस्तान को न्यूक्लियर रिएक्टर दिए है।

    * इसका पाकिस्तान परमाणु बम बनाने में इस्तेमाल करता रहा है।  

    * हाल ही में जारी आर्म्स कंट्रोल एसोसिएशन (ACA) की रिपोर्ट ने किया है खुलासा।

    * रिपोर्ट के मुताबिक, 'चीन एक ऐसे देश (पाकिस्तान) को ये रिएक्टर्स दे रहा है।

    * जो इंटरनेशनल एटॉमिक एनर्जी एजेंसी (IAEA) के मानकों पर खरा नहीं उतरता।

    * चीन ने पाकिस्तान के Chashma प्लांट के लिए दिए हैं न्यूक्लियर रिएक्ट।

अमेरिका का पाकिस्तान को सबसे बड़ा झटका, मिसाइल प्रोग्राम से जुड़े प्रतिष्ठानों पर लगाई पाबंदी

अमेरिका ने पाकिस्तान को दिया है अबतक का सबसे बड़ा झटका। झटका जिससे पाकिस्तान का परमाणु बटन हो जाएगा 'लॉक'। अमेरिका ने पाकिस्तान के मिसाइल प्रोग्राम से जुड़े प्रतिष्ठानों पर प्रतिबंध लगा दिया है। पाकिस्तानी अखबार 'डॉन' में छपी खबर के मुताबिक अमेरिकी वाणिज्य विभाग ने ये रोक लगाई है। रोक पाकिस्तान के मिसाइल कार्यक्रम से जुड़े सात बड़े प्रतिष्ठानों पर लगाई गई है। खबरों के मुताबिक अमेरिका के वाणिज्य विभाग ने इन प्रतिष्ठानों को अमेरिका की ‘एक्सपोर्ट एडमिनिस्ट्रेशन रेगुलेशन्स’(EAR) सूची में डाल दिया है। इस सूची में उन प्रतिष्ठानों को रखा जाता है जिन पर अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा के खिलाफ काम करने का आरोप होता है। इस सूची में डालने के बाद इन प्रतिष्ठानों से जुड़े सभी सामानों के आयात-निर्यात कड़ी नजर रखी जाएगी। इस प्रतिबंध का सीधा-सीधा असर पाकिस्तान के बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम पर पड़ना तय है। पाकिस्‍तानी अखबार द डॉन के मुताबिक प्रतिबंधित प्रतिष्ठानों में अहद इंटरनेशनल, एयर वैपन्स कॉम्‍प्‍लेक्‍स, इंजिनियरिंग सॉल्यूशन्‍स प्राइवेट लिमिटेड, मैरीटाइम टेक्‍नॉलजी कॉम्‍प्‍लेक्‍स नैशनल इंजिनियरिंग ऐंड साइंटिफिक कमिशन, न्यू ऑटो इंजिनियरिंग और यूनिवर्सल टूलिंग सर्विसेज शामिल हैं। हालांकि पाकिस्तान अपने परमाणु या मिसाइल कार्यक्रम में किसी भी तरह की गड़बड़ी की हमेशा इनकार करता रहा है। लेकिन भारत पाकिस्तान के इस झूठ को बेनकाब करने की कोशिश करता रहा है। कैसे पाकिस्तान बिजली के नाम पर बना रहा है परमाणु बम? कैसे पाकिस्तान दुनिया की आंखों में धूल झौंक कर अपने बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम को आगे बड़ा रहा है? आज की तारीख में पाकिस्तान के पास 120 से ज्यादा न्यूक्लियर बम हैं जो भारत, इजरायल और उत्तरी कोरिया से ज्यादा है। अनुमान है कि 2020 तक पाकिस्तान के पास आज के मुकाबले दोगुने परमाणु हथियार हो जाएंगे।