पाक समेत 8 देशों के छात्रों को प्रवेश देने के लिए प्रवेश परीक्षा कराएगा IIT

नई दिल्ली (9 मार्च): साल 2017 से इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलॉजी (आईआईटी) अंडरग्रैजुएट और पोस्टग्रैजुएट कोर्सेस के लिए 8 अन्य देशों के छात्रों के लिए भी प्रवेश परीक्षा शुरू करेगा। जिनमें पाकिस्तान, श्रीलंका, सिंगापुर और दुबई शामिल हैं।

'एक्सप्रेस ट्रिब्यून' की रिपोर्ट के मुताबिक, यह फैसला मानव संसाधन विकास मंत्रालय और विदेश मंत्रालयों के बीच हुई बैठक के बाद लिया गया है।

इस पहल के बारे में बताते हुए मानव संसाधन विकास मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, "यह पहली बार है जब विदेशी छात्रों को प्रवेश देने के लिए विदेशों में परीक्षा कराने का फैसला किया गया है। यह शुरुआत करने के लिए हम छात्रों को जेईई-गेट परीक्षाओं के माध्यम से प्रवेश देंगे जिनका 2017 में आयोजित किया जाएगा।"

अभी तक विदेशों में जो प्रवेश परीक्षाएं आयोजित की गईं, वे केवल भारतीयों को 18 आईआईटीज़ में प्रवेश देने के लिए आयोजित की गईं।

छात्रों को चयनित करने की प्रक्रिया कॉमन इन्ट्रैंस एक्ज़ाम के माध्यम से पूरी की जाएगी। जिसे आईआईटीज़ और उक्त देशों के भारतीय मिशन्स की मदद से आयोजित किया जाएगा। हालांकि, विदेशी छात्रों को ऑफर की जाने वाली सीटें अतिरिक्त होंगी। जिससे भारतीय छात्रों के लिए सीटों की संख्या में कोई कमी ना हो।

विदेशी छात्रों के लिए भुगतान की फीस भी सब्सिडी प्राप्त भारतीय छात्रों की तुलना में ज्यादा होगी। भारत सरकार विदेशी छात्रों को आईआईटीज़ में प्रवेश देने में काफी दिलचस्पी ले रही है, जिससे इन संस्थानों की अंतर्राष्ट्रीय अकादमिक रैंकिंग को बढ़ाया जा सके।

इसके लिए, विदेश मंत्रालय विदेशी छात्रों को पढ़ाई के दौरान पूरे समय के लिए रीसर्च वीज़ा देगी। जबकि, अभी इसके लिए एक साल का वीज़ा दिया जाता है।