26/11 जैसे हमले करना चाहता था पाक उच्चायोग का कर्मचारी

नई दिल्ली (28 अक्टूबर): पाकिस्तानी उच्चायोग के अधिकारी महमूद अख्तर को समय रहते ही जासूसी करते हुए पकड़ा लिया गया, नहीं हो जल्द ही वह भारत में मौत का तांडव करने वाला था। खुफिया एजेंसियों के मुताबिक, उनके पास ऐसा इनपुट है कि आईएसआई समंदर के रास्ते आतंकी भेजने की साजिश रच रही थी।

आपको बता दें कि नवंबर 2008 में पाकिस्तान से समंदर के रास्ते आतंकी मुंबई में घुसे थे और 26/11 को अंजाम दिया था। दिल्ली पुलिस ने पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में मौलाना रमजान और सुभाष जांगिड़ को गिरफ्तार किया था। ये दोनों चिड़ियाघर से दिल्ली पुलिस के हत्‍थे चढ़े थे। इन दोनों को उस समय गिरफ्तार किया गया था, जब वे महमूद अख्तर को गोपनीय दस्तावेज सौंप रहे थे।

पाकिस्तान की जासूसी के लिए तैयार कर सके इन दोनों की गिरफ्तारी के बाद शोएब नाम के शख्स को जोधपुर से गिरफ्तार किया गया था। बताया जाता है कि वह वीजा एजेंट था। महमूद अख्तर पाकिस्तानी आर्मी में हवलदार था। आईएसआई ने जासूसी कराने के मकसद से उसे दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग के वीजा सेक्‍शन में तैनात किया था, ताकि वह आसानी से लोगों को पाकिस्तान की जासूसी के लिए तैयार कर सके।