आतंकवाद को समर्थन पर अपनी ही सरकार पर भड़की पाक मीडिया

नई दिल्ली (26 फरवरी): अब आतंकवाद को लेकर पाकिस्तानी मीडिया ने ही अपनी सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। 'द डॉन' ने सरकार पर हमला करते हुए कहा कि उन संगठनों का इस्तेमाल अपनी विदेश नीति के औजार के रूप में कर रहा है, जिन्हें वैश्विक समुदाय ने आतंकवादी संगठन घोषित किया हुआ है। इस नीति से पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय रूप से अलग-थलग पड़ने की ओर अग्रसर हो रहा है।

द डॉन ने सेना की आलोचना भी की गई है। इसमें कहा गया है कि पैरिस में हाल में हुई वित्तीय कार्रवाई कार्यबल (एफएटीएफ) की हाल में हुई बैठकों से आई खबरें पचा ली गई हैं। इस तथ्य पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है कि अमेरिका द्वारा पाकिस्तान को ग्रे सूची में रखे जाने का प्रस्ताव पेश किया गया और इस दौरान हमारे मित्र चीन व सऊदी अरब दोनों ने भी पाकिस्तान का साथ छोड़ दिया।

एक अन्य समाचार पत्र 'द न्यूज' ने पाकिस्तान को आतंकवादी फंडिंग के खिलाफ अपनी निष्क्रियता के परिणामों के बारे में गंभीरता से ध्यान देने की जरूरत की बात कही। पाकिस्तान के एक अन्य प्रतिष्ठित समाचार पत्र 'द नेशन' ने एक संपादकीय में कहा, 'यह समय दोषपूर्ण नीतियों पर ध्यान देना का है जो हमें आतंक की कगार पर ले गया।'