पाकिस्तानी मदरसों में कुरान नहीं, पढ़ाया जा रहा है जिहाद !

नई दिल्ली (29 सितंबर): ब्रसेल्स की ख्याति प्राप्त संस्था क्राइसिस ग्रुप की एक सर्वे रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि पाकिस्तान का पंजाब प्रांत जिहादियों का हॉर्टलैंड बन गया है। पाकिस्तान के मदरसों में धार्मिक अतिवाद की शिक्षा दी जा रही है। पाक में संचालित मदरसे आतंक की नर्सरी बन चुके हैं। इस रिपोर्ट की प्रासंगिकता इस लिए भी बढ़ जाती है क्योंकि पीएम नरेंद्र मोदी खुलकर ये कहते हैं कि धार्मिक अतिवाद से बचने के लिए पाक के हुक्मरानों ने अगर कुछ नहीं किया तो हालात बेहद खराब हो जाएंगे।

रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान में राजनीतिक दलों की नाकामी की वजह से आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद अपनी ताकत बढ़ा रहा है। जैश के आका पाकिस्तान सरकार के समानांतर एक व्यवस्था चला रहे हैं। जैश शैक्षणिक संस्थानों के जरिए पाकिस्तान के मासूम लडक़ों के दिल और दिमाग में नफरत का जहर घोल रहा है।

क्राइसिस ग्रुप के मुताबिक दक्षिण पंजाब का राजनपुरस सिंध का काश्मोर और बलूचिस्तान में डेरा बुगती खान जिहादियों के लिए शरणगाह बन चुके हैं। देवबंदी विचारधारा के मदरसों में जिहाद के बारे में ही सिर्फ पढ़ाया जाता है। इन मदरसों में तालिबान के समर्थन और भारत के खिलाफ एक सूत्रीय नीति पर काम किया जा रहा है। पाकिस्तान की जमीन पर संचालित मदरसों में भारत के खिलाफ नफरत के बीज बोए जा रहे हैं।