मुस्लिम देशों को बैन करने का सुझाव देने वाले थिंकटैंक पर भड़का पाक

नई दिल्ली(12 फरवरी):  अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप को प्रतिबंध संबंधी नए सुझाव देने वाले एक थिंकटैंक के खिलाफ पाकिस्तान ने कड़ा रुख अपनाया है। थिंकटैंक ने रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान को किसी भी प्रकार की सहायता देने और वहां के सैन्य अधिकारियों तथा राजनेताओं की यात्रा पर प्रतिबंध की सिफारिश की है।

- थिंकटैंक ने ट्रंप को दी गई रिपोर्ट में कश्मीर, आतंकवाद, बलूचिस्तान सहित कई मसलों का जिक्र किया है।

- पाकिस्तानी दूतावास ने इस रिपोर्ट पर भड़ास निकालते हुए चुनौती दी। इस दौरान स्थिति उस वक्त गंभीर हो गई जब सुरक्षाबलों ने एक प्रश्नकर्ता को बाहर निकाल दिया। उसने रिपोर्ट को बनाने वालों में शामिल अमेरिका में पाकिस्तान के पूर्व राजदूत हुसैन हक्कानी को धमकी देते हुए गद्दार और रॉ का एजेंट करार दिया।

- रिपोर्ट में कश्मीर मसले के समाधान के लिए जरुरी अमेरिकी हस्तक्षेप, बलूचिस्तान में भारत का हाथ, आतंक के खिलाफ जंग में पाकिस्तान का बलिदान जैसे मुद्दों को खारिज कर दिया। अमेरिकी थिंकटैंक में इसकी बजाय पाकिस्तान द्वारा अफगानिस्तान और आतंकवाद की बहानेबाजी बनाकर परमाणु हथियार और अमेरिकी मदद लेने पर चर्चा हो रही है।

- रिपोर्ट में ट्रंप सरकार से अपील की गई है कि वे पाकिस्तान को मदद देना बंद करे।

-  रिपोर्ट के अनुसार, ' पाकिस्तान को आर्थिक एवं हथियारों की मदद देना बंद करें जो वह आतंकवाद और सुरक्षा का हवाला देते हुए मांगता रहा है। इसके अलावा पाकिस्तान को सहयोगी भी मानना बंद करें क्योंकि वह अफगान तालिबान की मदद कर रहा है।'

- रिपोर्ट में पाकिस्तान को कश्मीर मुद्दे से दूर रहने और दोनों देशों को द्विपक्षीय वार्ता के द्वारा इसका समाधान निकालने की बात कही गई। रिपोर्ट की प्रमुख लिसा कुर्टिस ने कहा कि जम्मू कश्मीर में स्थिति सुधर रही है। पूर्व आतंकवादी अब मुख्यधारा की राजनीति में आ रहे हैं तथा श्रीनगर की सड़कों से सेना भी कम हो रही है।