अमेरिकी लताड़ के बाद झुका पाकिस्तान, अब बातचीत के लिए लगा रहा है गुहार

इस्लामाबाद (16 जनवरी): अमेरिका की लताड़ और आर्थिक मदद रुकने के बाद अब लगता है पाकिस्तान का अक्ल ठिकाने आ रहा है। पाकिस्तान के रक्षा मंत्री का कहना है कि यह समय अमेरिका के साथ विनम्र तरीके से बातचीत करने का है ताकि इस्लामाबाद और वॉशिंगटन के बीच गलतफहमियों को दूर किया जा सके। साथ उन्होंने कहा कि अमेरिका चाहता है कि इस्लामाबाद को नई दिल्ली के प्रति अपने रणनीतिक रुख में बदलाव करना चाहिए। 

पाकिस्तान अखबार डॉन की एक रिपोर्ट के मुताबिक खुर्रम दस्तगीर खान ने अफसोस जताते हुए कहा कि अमेरिका ने नियंत्रण रेखा (LoC) और वर्किंग बाउंड्री पर भारत के आक्रामक रुख को गंभीरता से नहीं लिया। साथ ही उन्होंने कहा कि लेकिन सत्य हमेशा सत्य होता है। भारत की ताकत और उसका इरादा दोनों आज के समय में पाकिस्तान को लेकर शत्रुतापूर्ण है। हलांकि पाक विदेश मंत्री ने US पर निशाना साधते हुए कहा कि अमेरिका अफगानिस्तान में आतंक के खिलाफ जंग नहीं जीत पा रहा है इसलिए वह पाकिस्तान को बलि का बकरा बना रहा है। 

गौरतलब है कि अपनी हरकतों को छिपाने के लिए पाकिस्तान भारत पर आरोप लगाता रहा है कि वह अफगानिस्तान का इस्तेमाल उसके खिलाफ गतिविधियों के लिए कर रहा है। हालांकि भारत ने ऐसे आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। खान ने आरोप लगाया कि भारत ने पाकिस्तान से लगती सीमा पर सैनिकों, सामग्रियों और चौकियों की संख्या बढ़ा दी है। उन्होंने यह भी कहा कि LoC पर सीजफायर उल्लंघन के लिहाज से 2017 एक खतरनाक साल रहा है। उन्होंने दावा किया कि भारत ने आज अपनी सैन्य क्षमता काफी बढ़ा ली है और युद्ध की तैयारी में जुटा हुआ है। उन्होंने आगे कहा कि भारत सरकार के मौजूदा शत्रुतापूर्ण रवैये और पाकिस्तान विरोधी रुख के चलते शांति की बात के लिए स्पेस कम हो गई है।