Blog single photo

FATF: 'ग्रे पाकिस्तान' ब्लैक लिस्ट से हुआ लिंक, तुर्की-मलेयशिया को भी लगा झटका

पैरिस में एफएटीएफ की एक बैठक में पाक की सभी कार्रवाइयों की समीक्षा की गई। मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फंडिंग पर पारदर्शिता की कमी को एफएटीएफ के सदस्य देशों ने रेखांकित किया और इसे पाक की सबसे बड़ी कमी माना। जैसे ही भारत ने हाफिज सईद के फ्रोजन एकाउंट से पैसे निकालने की सुविधा की ओर भी एफएटीएफ के सदस्य देशों का ध्यान आकर्षित किया वैसे ही उसके खिलाफ कार्रवाई की इबारत लिख दी गयी।

राजीव शर्मा, न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (16 अक्टूबर): तुर्की और मलयेशिया के लाख ब्लाइंड सपोर्ट करने के बावजूद एफएटीएफ ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में रखते हुए उसे ब्लैक लिस्ट से लिंक भी लिंक कर दिया है। एफएटीएफ का यह कदम भी पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट करने जैसा ही है। बस फर्क यह है कि ब्लैक लिस्ट जैसी पाबंदियां लागू होने के बावजूद अभी पाकिस्तान को फरवरी 2020 तक ब्लैक लिस्ट कहा नहीं जायेगा। अगर फरवरी 2020 तक भी पाकिस्तान की आतंकियों को वित्तीय मदद बंद नहीं करता है तो बिना किसी विचार विमर्श के पाकिस्तान ब्लैक लिस्टेड हो जायेगा। एफएटीएफ ने इस्लामाबाद को टेरर फंडिंग और मनी लॉन्ड्रिंग (धन शोधन) जैसे मुद्दों से निपटने के लिए अतिरिक्त कदम उठाने का आदेश दिया है।

पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स मुताबिक, पैरिस में एफएटीएफ की एक बैठक में पाकिस्तान की सभी कार्रवाइयों की समीक्षा की गई। मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फंडिंग पर की गयी कार्रवाईयों में पारदर्शिता की कमी को एफएटीएफ के सभी सदस्य देशों ने रेखांकित किया और इसे पाकिस्तान की सबसे बड़ी कमी माना। भारत ने हाफिज सईद के फ्रोजन एकाउंट से पैसे निकालने की सुविधा दिलाने वाले पाकिस्तानी कदम का जिक्र करते हुए कहा कि वैश्विक आतंकियों की सूची में शामिल अपराधी को यह सुविधा दिलाना बताता है कि पाकिस्तान सरकार आतंकियों की वित्तीय मदद करने में शामिल है। 

एफएटीएफ के सदस्य देशों ने भारत की इस आपत्ति को विशेष रेखांकित करते हुए पाकिस्तान पर कड़े प्रतिबंधों की सिफारिश की लेकिन मलेयशिया और तुर्की पाकिस्तान को और समय देने की मांग पर अड़ गये। चूंकि एफएटीएफ का चेयरपर्सन खुद चीन है इसलिए पाकिस्तान को चार महीने का समय तो मिल गया लेकिन बाकी देशों के दबाव को देखते हुए पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में बरकरार रखते हुए ब्लैकलिस्ट से लिंक भी करने चीन भी न बचा सका। हालांकि एफएटीएफ के इस फैसले की अधिकारिक घोषणा 18 अक्टूबर को की जायेगी।

पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय के प्रवक्ता उमर हमीद खान से मीडिया ने पूछा कि पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में रखने के साथ ही ब्लैक लिस्ट से लिंक करने के बाद उनकी क्या प्रतिक्रिया है तो उन्होंने कहा 18 अक्टूबर से पहले कुछ भी कहना ठीक नहीं है। आर्थिक मामलों के मंत्री हम्माद अजहर की अगुवाई में एक पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल ने बैठक में कहा कि इस्लामाबाद ने 27 में से 20 बिंदुओं में सकारात्मक प्रगति की है। एफएटीएफ ने पाकिस्तान द्वारा उठाए गए कदमों और विभिन्न क्षेत्रों में इसकी प्रगति पर संतोष व्यक्त किया।

Images Courtesy:Google

Tags :

NEXT STORY
Top