भारत ने पाकिस्तान को आतंकवाद पर जमकर लताडा़

नई दिल्ली(15 जून): भारत ने पड़ोसी पाकिस्तान को कश्मीर में आतंक को बढ़ावा देने का जिम्मेदार ठहराते हुए उसे आतंकवाद को प्रश्रय देने वाला राष्ट्र कहा है।

- संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) के 35वें सत्र में पाकिस्तान के बयान का जवाब देते हुए भारत ने पाक पर कश्मीर में अस्थिरता फैलाने के लिए आतंक का इस्तेमाल करने की बात कही। भारत ने साथ ही कश्मीर घाटी में प्रदर्शनों के समर्थन के लिए भी पड़ोसी देश की आलोचना की।

- UNHRC में भारत ने कहा, 'सीमा पर घुसपैठ और कश्मीर में प्रदर्शन को समर्थन देने के ठोस सबूत पाकिस्तान को सौंपे गए हैं। इस मसले का समाधान करने की जगह पाकिस्तान ध्यान बंटाने के लिए अन्य तिकड़म भिड़ा रहा है और हमने आज यह साफ-साफ देखा।' भारत ने UNHRC का इस्तेमाल राजनीतिक उदेश्य के लिए करने को लेकर पाकिस्तान की आलोचना की। भारत ने अपने बयान में कहा, 'पाकिस्तान का जम्मू-कश्मीर के बारे में अकारण और अवांछनीय बयान देना गलत और सत्य से परे है। जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है।'

- बयान में कहा गया है, 'कश्मीर की स्थिरता में आतंकवाद बहुत बड़ा बाधक है। पाकिस्तान आतंकवाद का पालन-पोषण कर रहा है। पाकिस्तान के कृत्य संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद रेज़ॉलूशन 1267 के उल्लंघन है। पाकिस्तान में आतंकी खुले घूम रहे हैं।' भारत ने कहा कि पाकिस्तान आतंकी गुटों की ट्रेनिंग, समर्थन और धन उपलब्ध करा रहा है और पड़ोसी देश के खिलाफ आतंक का इस्तेमाल कर रहा है। पाकिस्तान आंतक का केंद्र बनकर उभरा है।

- भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने जिनीवा में कहा, 'पाकिस्तान का पीओके और बलूचिस्तान में मानवाधिकार का रिकॉर्ड बेहद खराब है। पाकिस्तान अपने ही लोगों के खिलाफ हवाई ताकत और सेना का प्रयोग करने से नहीं झिझकता है। वह ऐसा बार-बार करता है। पाकिस्तान को इस मसले पर आत्मनिरीक्षण करना चाहिए।'

- भारत ने कहा, 'हम एक बार फिर पाकिस्तान से आग्रह करना चाहेंगे कि वह अपने देश में मानवाधिकार की स्थिति को सुधारे और पाकिस्तान और पीओके में आतंकी ढांचा को खत्म करे। इससे इस क्षेत्र में शांति और स्थिरता आएगी।'