नवाज की कुर्सी जाएगी या बचेगी, आज हो जाएगा तय

नई दिल्ली(28 जुलाई): पनामागेट मामले के अंतर्गत बेनामी संपत्ति जमा करने के आरोपों में फंसे पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनके परिवार के लिए शुक्रवार का दिन खासा अहम साबित होने जा रहा है। शुक्रवार को ही सुप्रीम कोर्ट उनके खिलाफ इस मामले में अपना फैसला सुनाएगा। शरीफ पर प्रधानमंत्री पद पर रहने के दौरान लंदन में बेनामी संपत्ति बनाने के आरोप हैं। इसका खुलासा पिछले साल पनामा पेपर लीक में हुआ था। 

- अगर अदालत नवाज को भ्रष्टाचार और काले धन को सफेद बनाने के मामले में दोषी मानती है, तो उन्हें प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य ठहराए जाने की आशंका है। वह अबतक 3 बार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बन चुके हैं, जो कि एक रिकॉर्ड है। अदालत द्वारा गुरुवार देर शाम जारी लिस्ट के अनुसार शुक्रवार सुबह 11:30 बजे इस केस में फैसला सुनाया जाएगा। 

- इस बीच, गृह मंत्री चौधरी निसार अली खान ने कहा कि वह पनामागेट मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद अपने पद से इस्तीफा दे देंगे और राजनीति छोड़ देंगे। उनकी इस घोषणा से उनके समर्थक और सत्तारुढ़ PML-N स्तब्ध हैं। उनके विरोधियों ने जिस तरह उन्हें नवाज से दूर रखा, उस पर उन्होंने बेहद नाराजगी जताई है। कोर्ट द्वारा शुक्रवार को निर्णायक फैसला सुनाने की यह बात लोगों के लिए हैरान करने वाली है। इससे पहले कहा गया था कि आने वाले 2 हफ्तों तक अदालत की कार्य सूची में पनामा केस को शामिल नहीं किया गया है।

- नवाज और उनके परिवार पर विदेशों में बेनामी संपत्ति खरीदने के आरोपों की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने एक संयुक्त जांच दल (JIT) का गठन किया था। JIT ने 10 जुलाई को अपनी रिपोर्ट अदालत को सौंप दी थी। रिपोर्ट में कहा गया था कि शरीफ और उनके बच्चों का रहन-सहन उनके आय के ज्ञात स्रोतों के मुकाबले काफी अच्छा है। रिपोर्ट में उनके खिलाफ भ्रष्टाचार का नया मामला दर्ज करने का भी सुझाव दिया गया था।