Blog single photo

धारा 370 पर समर्थन के लिए पाकिस्तान ने तुर्की को दिया बड़ा इनाम, बेची परमाणु बम बनाने की तकनीक !

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (23 अक्टूबर): पूरी दुनिया जानती है कि पाकिस्तान एक गैरजिम्मेदार देश है। दुनियाभर के देशों का मानना है कि पाकिस्तान में परमाणु बम सुरक्षित हाथों में नहीं है। पाकिस्तान का परमाणु बम आतंकियों की पहुंच से भी ज्यादा दूर नहीं है। पाकिस्तान ने पहले चोरी छिपे परमाणु बम की तकनीक हासिल की और फिर उसे दुनिया के अन्य देशों के बेचा

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (23 अक्टूबर): पूरी दुनिया जानती है कि पाकिस्तान एक गैरजिम्मेदार देश है। दुनियाभर के देशों का मानना है कि पाकिस्तान में परमाणु बम सुरक्षित हाथों में नहीं है। पाकिस्तान का परमाणु बम आतंकियों की पहुंच से भी ज्यादा दूर नहीं है। पाकिस्तान ने पहले चोरी छिपे परमाणु बम की तकनीक हासिल की और फिर उसे दुनिया के अन्य देशों के बेचा। एकबार फिर पाकिस्तान पर परमाणु बम तकनीक बेचने का आरोप लगा है। खबरों की मानें तो धारा 370 पर समर्थन के लिए पाकिस्तान ने तुर्की को बड़ा इनाम दिया है। पाकिस्तान ने तुर्की को परमाणु बम बनाने की तकनीक बेच दी है।

गौरतलब है कि आज से तकरीबन 15 साल पहले पाकिस्तान के परमाणु वैज्ञानिक अब्दुल कादिर खान ने माना था कि उसने कुछ देशों को परमाणु तकनीक बेची थी और उसका अवैध निर्यात किया था। अब डेढ़ दशक बाद यह मुद्दा फिर से गरमा गया है। दरअसल तुर्की के राष्ट्रपति रिजेब तैय्यप अर्दोआन ने हाल ही में अपनी पार्टी की एक बैठक में कथित तौर पर तुर्की को न्यूक्लियर पावर बनाने की इच्छा जाहिर की है। अर्दोआन ने अपनी पार्टी के एक करीबी नेता से हाल ही में कहा था, 'कुछ देशों के पास परमाणु क्षमता से लैस मिसाइलें हैं। हमारे पास वह नहीं हो सकता। इसे मैं मंजूर नहीं कर सकता।' 

राष्ट्रपति अर्दोआन के बयान से अमेरिका से लेकर पूरी दुनिया में खलबली मच गई है। न्यू यॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट में सवाल उठाया है कि, 'अगर अमेरिका इस तुर्किश नेता को अपने कुर्द सहयोगियों को बर्बाद करने से नहीं रोक सका तो वह उन्हें परमाणु हथियार बनाने या ईरान की तरह ऐसा करने के लिए परमाणु तकनीक इकट्ठा करने से कैसे रोक सकता है ?' रिपोर्ट में आगे लिखा गया है, 'तुर्की पहले ही बम बनाने के प्रोग्राम पर काम कर रहा है, यूरेनियम का भंडार जमा किया हुआ है और रिएक्टरों से जुड़े रिसर्च कर रहा है। तुर्की का दुनिया के कुख्यात कालाबाजारी पाकिस्तान के अब्दुल कादिर खान के साथ रहस्यमय समझौता है।'

आपको बता दें कि पाकिस्तान के इस परमाणु वैज्ञानिक पर उत्तर कोरिया, ईरान और लीबिया को परमाणु तकनीक बेचने का आरोप है। अब ऐसी चर्चाएं जोर पकड़ रही हैं कि तुर्की उसका चौथा कस्टमर है। खुफिया रिपोर्ट्स भी इस तरफ इशारा कर रही हैं। खान का न्यूक्लियर नेटवर्क मलयेशिया तक फैला हुआ है।

(Image Credit: Google)

Tags :

NEXT STORY
Top