पाकिस्तान ने फिर छापनी शुरु करदी फर्जी भारतीय करैंसी

नई दिल्ली (14 फरवरी): पश्चिम बंगाल से 2000 की नई करेंसी के नकली नोट फिर पकड़े गए हैं। राष्ट्रीय जांच एजेंसी और बीएसएफ के ज्वाइंट ऑपरेशऩ में 2000 रूपए के 40 नकली नोट पकड़े गए हैं। ये फर्जी करेंसी पाकिस्तान से भेजी गई थी। सवाल ये था कि पाकिस्तान सिर्फ चालीस पचास नकली नोट प्रिंट करके क्यों भेजगा? इतने कम नोटों से इंडियन इकोनॉमी पर क्या बुरा असर होगा? इस सवाल का जबाव भी एजेंसीज के पास है।

नोटबंदी के फैसले के हुए मुश्किल से अभी दो महीने ही हुए हैं कि एक बार फिर से पाकिस्तान और बांग्लादेश के रास्ते नकली नोटों की खेप देश के अंदर पहुंचनी शुरू हो गई है। पाकिस्तान बांग्लादेश के रास्ते तस्करी के जरिए बड़े पैमाने पर दो हजार रूपये के नकली नोटों की सप्लाई भारत में कर रहा है।

ये खुलासा मुर्शिदाबाद में अजीजुर्र रहमान की गिरफ्तारी के बाद हुआ है। एनआईए और बीएसएफ द्वारा गिरफ्तार किए गए रहमान से पूछताछ में पता चला है कि वह मालदा से 2000 रुपये के 40 नकली नोट लेकर आया था। इन नोटों को पाकिस्तान में वहां की खुफिया एजेंसी आईएसआर्इ की मदद से छापा गया था। जांच एजेंसियों को पता चला है कि पाकिस्तान ने फिलहाल इन नकली नोटों को सैंपल के तौर पर भेजा है। मालदा में नकली नोट को लेकर लोग चौकन्ने है इसलिए नकली नोट के स्मगलर इन नोटों को यूपी भेजने की फिराक में थे। 2000 के इन चालीस नकली नोटों को यूपी के बार में डांसर के ऊपर लुटाकर खपाने की प्लानिंग की इसी लिए रहमान मुर्शिदाबाद के लाल बाग इलाके में नोटों की डिलीवरी देने आया था लेकिन पकड़ा गया। रहमान ने बताया कि उसे ये नकली नोट जफर नाम के शख्स से मिले थे।