POK में पाकिस्तान ने पार की बर्बरता की हदें, बहाना बनाकर जेल में ठूंसे जा रहे लोग



नई दिल्ली (12 अगस्त): POK में पाकिस्तान बर्बरता की तमाम हदें पार करता जा रहा है। यहां पाकिस्तानी सेना और आईएसआई बहाना बनाकर लोगों में जेल में डाल रहे हैं। आपको बता दें कि गिलगित-बाल्टिस्तान और पाक अधिकृत कश्मीर में आजादी की मांग जोर पकड़ने लगी है। पीओके में राजनीतिक पार्टियां समेत कई सामाजिक कार्यकर्ता पाकिस्तान की नीतियों की खुलकर आलोचना कर रहे हैं। राजनीतिक कार्यकर्ता ताइफघुर अकबर ने कहा कि,' पीओके के लोगों को देशद्रोही कहा जाता है, उन्हें नेशनल एक्शन प्लान के नाम पर जेल में डाल दिया जाता है।' 

उन्होंने कहा कि पीओके में लोगों के साथ गुलामों की तरह बर्ताव किया जाता है, न यहां कोई सड़क है, न कोई कारखाना है। लोगों को यहां बात भी नहीं करने दिया जाता है। किताबों पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है।

आपको बता दें कि गिलगित बाल्टिस्तान के लोगों के राजनीतिक और आर्थिक अधिकार के लिए अपनी आवाज उठाने वाले हसनैन रामल को पाकिस्तान के आतंकवाद विरोधी कानून के अनुच्छेद 4 के तहत गिरफ्तार किया गया था। सूत्रों के अनुसार, हसनैन रामल को गिलगित बाल्‍टिस्‍तान के लोगों से संबंधित मामलों को लेकर सोशल मीडिया पर अधिक पोस्‍ट करने के कारण स्‍थानीय कानून प्रर्वतन आधिकारियों ने हिरासत में लिया था।