Blog single photo

पहले अपना मुल्क संभालें इमरान- नसीरुद्दीन शाह

असहिष्णुता को लेकर दिए बयान के बाद विवादों में आए अभिनेता नसीरुद्दीन शाह ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को करारा जवाब दिया है। नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि इमरान खान को अपना देश संभालना चाहिए

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (23 दिसंबर): असहिष्णुता को लेकर दिए बयान के बाद विवादों में आए अभिनेता नसीरुद्दीन शाह ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को करारा जवाब दिया है। नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि इमरान खान को अपना देश संभालना चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि हमें 70 साल से समाज की सुरक्षा करना आता है। आपको बता दें कि नसीरुद्दीन शाह के असहिष्णुता के बयान में पाकिस्तान कूद पड़ा था। इमरान खान ने कहा था कि भारत में अल्पसंख्यक सुरक्षित नहीं हैं।

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने अभिनेता नसीरुद्दीन शाह के बयान की आड़ में भारत पर सवाल खड़ा किया है। इमरान खान ने शनिवार को कहा कि वह नरेंद्र मोदी सरकार को दिखाएंगे कि अल्‍पसंख्‍यकों से व्‍यवहार कैसे किया जाता है। लाहौर में पंजाब सरकार के 100 दिनों की उपलब्धियों से जुड़े कार्यक्रम को संबोधित करते हुए इमरान खान ने कहा कि उनकी सरकार ऐसे कदम उठा रही है जिससे कि पाकिस्‍तान में धार्मिक अल्‍पसंख्‍यकों को उनका हक मिल सके। इमरान खान ने जिन्‍ना का जिक्र करते हुए कहा कि वे कांग्रेस के बड़े नेता थे। उन्‍हें हिंदू-मुस्लिम एकता का प्रतीक माना जाता था। लेकिन उन्‍हें लगा कि कांग्रेस मुस्लिमों को बराबरी का अधिकार नहीं देगी। इसलिए उन्‍होंने अलग मुल्‍क की मांग की। वे नहीं चाहते थे कि मुसलमान दोयम दर्जे के नागरिक बने।

पाक प्रधानमंत्री ने नसीरुद्दीन शाह का नाम लेते हुए कहा कि, 'आज के हिंदुस्‍तान में यही  हो रहा है। मैं नसीरूद्दीन शाह का पढ़ रहा था, वह जो बातें कर रहे हैं वह बातें जिन्‍ना कह चुके थे। वे समझते थे कि हिंदुस्‍तान में मुसलमानों को बराबर का नागरिक नहीं माना जाएगा। वही आज हिंदुस्‍तान में हो रहा है।' इमरान खान ने कहा कि उनकी सरकार यह तय करेगी कि अल्‍पसंख्‍यक सुरक्षित, संरक्षित महसूस करें और 'नए पाकिस्‍तान' में उन्‍हें बराबर अधिकार मिलें। इमरान खान ने नसीरुद्दीन शाह के बयान की ओर इशारा करते हुए कहा कि, 'हम मोदी सरकार को दिखाएंगे कि अल्‍पसंख्‍यकों से कैसे व्‍यवहार किया जाता है। भारत में भी लोग कह रहे हैं कि अल्‍पसंख्‍यकों के साथ बराबरी का व्‍यवहार नहीं होता।' पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री ने कहा कि यदि कमजोर के साथ न्‍याय नहीं होता है तो फिर वह विद्रोह के लिए उठ खड़ा होता है। एक उदाहरण देते हुए उन्‍होंने कहा, 'पूर्वी पाकिस्‍तान के लोगों को उनके अधिकार नहीं दिए गए इसी वजह से बांग्‍लादेश बना।'

आपको बता दें कि नसीरुद्दीन शाह ने पिछले दिनों कहा था कि आज देश में पुलिस ऑफिसर की मौत से ज़्यादा अहमियत गाय की है। एक वेबसाइट से बातचीत करते हुए उन्‍होंने कहा था, 'हमने बुलंदशहर हिंसा में देखा कि आज देश में एक गाय की मौत की अहमियत पुलिस ऑफिसर की जान से ज़्यादा होती है।' नसीरुद्दीन शाह ने ये भी कहा कि इन दिनों समाज में चारों तरफ ज़हर फैल गया है। उन्होंने कहा, 'मुझे इस बात से डर लगता है कि अगर कही मेरे बच्चों को भीड़ ने घेर लिया और उनसे पूछा जाए कि तुम हिंदू हो या मुसलमान? मेरे बच्चों के पास इसका कोई जवाब नहीं होगा। पूरे समाज में ज़हर पहले ही फैल चुका है।'

NEXT STORY
Top