NSG के लिए पाकिस्तान परेशान, उठाया ये कदम

नई दिल्ली(9 जून): न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप की सदस्यता के लिए भारत को यूएस का साथ मिल गया है। यूएस का सपोर्ट मिलने से पड़ोसी देश पाकिस्तान तिलमिला गया है। पाक फॉरेन मिनिस्ट्री ने मेंबरशिप पर सपोर्ट के लिए NSG देशों के डिप्लोमैटिक मिशन को अपनी बात समझाने के लिए बुलाया।

पाकिस्तान पीएम के विदेश मामलों के एडवाइजर सरताज अजीज ने 3 देशों के फॉरेन मिनिस्टर से बात कर एनएसजी मेंबरशिप के मुद्दे पर सपोर्ट की बात कही। पाक अखबार 'द डॉन' की खबर के मुताबिक, अजीज ने रूस, न्यूजीलैंड और साउथ कोरिया के फॉरेन मिनिस्टर से फोन पर बात की। अजीज ने तीनों देशों के विदेश मंत्रियों से एनएसजी मेंबरशिप के मुद्दे पर पाकिस्तान का सपोर्ट करने की बात कही।

पाकिस्तान फॉरेन डिपार्टमेंट के स्पोक्सपर्सन के मुताबिक अजीज की तीन देशों से बातचीत को पाकिस्तान का डिप्लोमैटिक एफर्ट माना जा सकता है। स्पोक्सपर्सन ने ये भी कहा कि अजीज ने मेंबरशिप के लिए पाकिस्तान के मजबूत दावे का जिक्र किया।

पाकिस्तान ने इस्लामाबाद में इन देशों से कहा कि भारत को NSG मेंबरशिप मिलना साउथ एशिया की स्ट्रैटिजिक स्टेबिलिटी पर निगेटिव असर डालेगा। एनएसजी देशों के साथ ब्रीफिंग सेशन में पाक फॉरेन ऑफिस में यूएन डेस्क की हेड तस्नीम असलम ने कहा कि हमारे पास एक्सपरटाइज के अलावा, मैनपावर, इन्फ्रास्ट्रक्चर और एनएसजी मानकों के तहत कंट्रोल्ड एटॉमिक आइटम और सर्विस देने की क्षमता है। इतना ही नहीं पाकिस्तान के पास, शांति कार्यों के लिए देने के लिए पर्याप्त न्यूक्लियर सामान मौजूद है।

तस्नीम ने कहा कि मैं ब्रीफिंग में आए सभी डिप्लोमैट्स से अपील करती हूं कि वे एनएसजी मेंबरशिप के मुद्दे पर नॉन-एनपीटी मुल्कों का सपोर्ट करने के लिए भेदभाव न करें। न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) की मेंबरशिप के लिए US का भारत को सपोर्ट मिलने से पाकिस्तान तिलमिला गया है। आनन-फानन में पाक फॉरेन मिनिस्ट्री ने मेंबरशिप पर सपोर्ट के लिए NSG देशों के डिप्लोमैटिक मि