Blog single photo

पाकिस्तान परेशान, MQM अल्ताफ हुसैन ने पीएम मोदी से भारत में शरण की लगाई गुहार

पाकिस्तानी नेता और मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट (MQM) के संस्थापक अल्ताफ हुसैन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से खुद और अपने सहयोगियों को भारत में शरण देने की अपील की। साथ ही अल्ताफ हुसैन ने पीएम मोदी ने आर्थिक मदद की भी मांग की है। अल्ताफ हुसैन ने आरोप लगाया है कि पाकिस्तान सरकार और सेना ने करांची में उनकी सारी समंप्ति हड़प ली है।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (18 नवंबर): पाकिस्तानी नेता और मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट (MQM) के संस्थापक अल्ताफ हुसैन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से खुद और अपने सहयोगियों को भारत में शरण देने की अपील की। साथ ही अल्ताफ हुसैन ने पीएम मोदी ने आर्थिक मदद की भी मांग की है। अल्ताफ हुसैन ने आरोप लगाया है कि पाकिस्तान सरकार और सेना ने करांची में उनकी सारी समंप्ति हड़प ली है। फिलहाल अल्ताफ हुसैन ब्रिटेन में निर्वासित जीवन बिता रहे हैं। एमक्यूएम प्रमुख अल्ताफ हुसैन ने प्रधानमंत्री मोदी से गुजारिश की है कि वह उनको और उनके साथियों को भारत में शरण दें या फिर आर्थिक मदद प्रदान करें। गौरतलब है कि  कि पाकिस्तान में आतंकवाद के अपराध मामलों में आरोपी अल्ताफ हुसैन इन दिनों लंदन में रह रहे हैं। 

किसी तरह की राजनीति में हस्तक्षेप नहीं करने का वादा करते हुए हुसैन ने पिछले हफ्ते सोशल मीडिया के जरिए यह बयान जारी किया और साथ ही कहा कि अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का वह स्वागत करते हैं। अपने नौ नवंबर के भाषण में उन्होंने कहा कि यदि पीएम मोदी उन्हें अनुमति और सहयोगियों के साथ शरण देते हैं तो वह भारत जाने को तैयार हैं क्योंकि यहीं उनके दादा, दादी को दफनाया गया। उन्होंने कहा कि हमारे सैकड़ों रिश्तेदार भारत में दफनाए गए हैं। वह उनकी मजारों और कब्र पर जाना चाहते हैं, प्रार्थना करना चाहते हैं।  हुसैन ने कहा कि वह शांतिप्रिय व्यक्ति हैं। वह राजनीति में कोई दखल नहीं देंगे, यह वादा है। बस केवल सहयोगियों के साथ भारत में रहने की जगह मुहैया करा दी जाए। भारत से अपील में उन्होंने कहा कि उनके घर और कार्यालयों को जब्त कर लिया गया है। ऐसे में पाक सरकार के खिलाफ संघर्ष का कोई रास्ता नहीं बचा है। उन्होंने कहा कि यदि भारत शरण नहीं दे सकता है तो कम से कम कुछ आर्थिक मदद ही उपलब्ध करा दे ताकि हम हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय न्यायालय जा सकें।

अल्ताफ  हुसैन ने साल 2016 में यूके से पाकिस्तान में अपने अनुयायियों के लिए एक कथित घृणास्पद भाषण प्रसारित करने के आरोप है। इसमें उन्‍होंने अपने अनुयायियों से कानून हाथ में लेने का आह्वान किया था। आतंकवाद के अपराध से जुड़े इस मामले में बीते 10 अक्‍टूबर को यूके के क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विसेज ने उनके खिलाफ आरोप तय किए थे। उनके खिलाफ आतंकवाद से जुड़े इस मामले में जून 2020 में मुकदमा चलने वाला है।

Tags :

NEXT STORY
Top