डोभाल ने की अमेरिकी विदेश मंत्री से बात, ऐसे होगा पाकिस्तान का खात्मा

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (28 फरवरी): दुनियाभर के लिए आतंक की फैक्ट्री बन चुके पाकिस्तान की अब खैर नहीं है। भारत के तल्ख तेवर के बाद दुनिया के कई देश आतंकवाद के मुद्दे पर भारत का खुलेआम साथ देने का ऐलान किया है। अब की इस कूटनीतिक जीत के बाद अब पाकिस्तान पर चौतरफा हमला होने जा रहा है। अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन समेत दुनिया के कई बड़े देशों ने पाकिस्तान को तत्काल सुधरने या फिर अंजाम भुगतने की चेतावनी दी है। इसी कड़ी में अमेरिका ने पाकिस्तान को सख्त चेतावनी देते हुए कहा है कि वो तत्काल आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करे।भारत ने जहां पाक परस्त आतंकियों के खिलाफ खुलेआम युद्ध का ऐलान कर दिया है वहीं उसके पनाहगार पाकिस्तान की कमर को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी तोड़ने की मुहिम में जुटा है। इसी कूटनीति की कड़ी में भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने देर रात अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो से तकरीबन 25 मिनट तक बात की। इस बातचीत के दौरान भारतीय सुरक्षा सलाहकार ने अमेरिकी विदेश मंत्री को पाकिस्तान में पल रहे आतंकवाद के खिलाफ अपनी आगे की रणनीति और कार्रवाई के बारे में बताया। अजित डोभाल ने माइक पॉम्पियो को भारत के द्वारा पाकिस्तान में घुसकर जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर की गई एयर स्ट्राइक के बारे में भी जानकारी दी। इस बातचीत के दौरान अमेरिका ने साफ शब्दों में कहा कि आतंकवाद के खिलाफ किसी भी लड़ाई में वह भारत के साथ है।भारत की एयरस्ट्राइक से घबराए पाकिस्तान पर अब जबरदस्त कूटनीतिक मार पड़ रही है। इसी कड़ी में संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने बुधवार को प्रस्ताव दिया कि इस आतंकी संगठन को संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद ब्लैक लिस्ट करे।  इसी आंतकी संगठन ने पुलवामा में भारतीय अर्धसैनिक बल के काफिले पर हमला करने का दावा किया था। अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने 15 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबंध समिति से मौलाना मसूद अजहर पर हर तरह के प्रतिबंध लगाने की मांग की है। प्रस्ताव में कहा है कि आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर पर हथियार और वैश्विक यात्रा से जुड़े प्रतिबंध लगाने के साथ उसकी परिसंपत्ति भी फ्रीज की जाएं।वहीं भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज पाकिस्तान की आतंकी हरकतों से दुनिया को अवगत कराने में जुटी हैं। इसी कड़ी में चीन के दौरे पर सुषमा स्वराज ने चीन और रूस को पाकिस्तान की नापाक हरकत के बारे में बताया। भारतीय विदेश मंत्री चीन और रूस के सामने पाकिस्तान के आतंकवादी समर्थित चेहरे को सामने रखा है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज सऊदी अरब के लिए रवाना हुई, जहां पर पाकिस्तान के आतंकी हिसाब-किताब को बताएंगी और इसके खिलाफ चल रही लड़ाई में समर्थन जुटाएंगी। इन सबके बीच पुलवामा में हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी लेने वाले जैश-ए-मोहम्मद पर कार्रवाई को लेकर दुनिया के बड़े देश आगे आए हैं।