भारत की सर्जिकल स्ट्राइक में मारे गए थे लश्कर के 20 आतंकी

नई दिल्ली (9 अक्टूबर): भारतीय सेना द्वारा एलओसी पार करके सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। सूत्रों ने बताया कि इस सर्जिकल स्ट्राइक में सबसे ज्यादा नुकसान आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा को हुआ है।

खुफिया एजेंसियों को मिले रेडियो इंटरसेप्ट्स के जरिए पता चला है कि लश्कर-ए-तैयबा के करीब 20 आतंकी भारत की कार्रवाई में मारे गए। पाकिस्तानी अधिकारियों की आपस में हुई बीतचीत के आधार पर जो रिपोर्ट तैयार की गई है, उसके मुताबिक पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में दुदनियाल आतंकी शिविर में लश्कर-ए-तैयबा को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा।

सूत्रों ने बताया कि आतंकियों को भारतीय सेना की ओर से कार्रवाई किए जाने की उम्मीद नहीं थी और इसलिए वे चकित रह गए। रिपोर्ट के मुताबिक जब भारतीय सैनिकों ने इन आतंकवादियों को मारना शुरु किया तो वे पाकिस्तानी चौकी की तरफ भागते देखे गए। सूत्रों के मुताबिक, सुबह होते ही वहां पाकिस्तानी सेना के वाहनों की भारी हलचल दिखी और सभी शवों को वहां से हटाकर किसी अज्ञात जगह पर ले जाया गया।

सूत्रों ने कहा कि रेडियो बातचीत से संकेत मिलता है कि मारे गए आतंकवादियों को नीलम घाटी में सामूहिक रूप से दफनाया गया। पुंछ के सामने बलनोई क्षेत्र स्थित आतंकी ठिकानों को भी इसी तरह के भीषण प्रहार का सामना करना पडा। सूत्रों ने बताया कि इस सेक्टर में भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक में पाकिस्तान की 8 नार्दर्न लाइट इन्फेंटरी के दो जवान भी मारे गए।