दुनिया में अलग-थलग पड़ा पाकिस्तान, रद्द हो सकता है सार्क समिट

नई दिल्ली (21 सितंबर): उरी आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान को दुनिया में अलग-थलग करने की भारत की कोशिश रंग ला आ रही है। रूस की सख्ती के बाद अब अमेरिका ने पाकिस्तान को लताड़ लगाई है। यूएस के विदेश मंत्री जॉन कैरी ने नवाज शरीफ से कहा कि वे पाकिस्तान की जमीन को आतंकियों के लिए सुरक्षित ठिकाना नहीं बनने दें। अफगानिस्तान और बांग्लादेश इस साल नवंबर में इस्लामाबाद में होने वाली सार्क समिट का बायकॉट कर सकते हैं। 

- जॉन कैरी और नवाज के बीच यह मीटिंग 71st यूएन जनरल असेंबली से अलग हुई। इस मौके पर शरीफ ने कश्मीर का मुद्दा उठाया। इस मसले पर अमेरिका की मदद भी मांगी।

- बाद में यूएस डिपार्टमेंट के डिप्टी स्पोक्सपर्सन मार्क टोनर ने इस मीटिंग की जानकारी दी। टोनर ने बताया - कैरी ने शरीफ से कहा कि वह आतंकी संगठनों से असरदार ढंग से निपटें। पाकिस्तान को अपनी जमीन आतंकियों के लिए सुरक्षित ठिकाना नहीं बनने देना चाहिए।

- कैरी ने शरीफ से न्यूक्लियर वेपंस प्रोग्राम पर भी लगाम लगाने को कहा।

- इससे पहले रूस ने पाकिस्तान के साथ इस साल के आखिर में होने वाली ज्वाइंट मिलिट्री ड्रिल कैंसल कर दी है।

- भारत में बांग्लादेश के हाई कमीशन सैयद मुआज्जेम ने मंगलवार को कहा- पीएम हसीना बिमसटेक मीट में शामिल होने के लिए 16 अक्टूबर को भारत आएंगी। 

- मोदी और हसीना के बीच बायलैट्रल मीट होगी। इसके बाद ही सार्क समिट में शामिल होने पर फैसला किया जाएगा। अभी तक हमारी पीएम ने इसमें शामिल होने का फैसला नहीं किया है। हमें इस मामले में इंतजार करना होगा। हम भारत के साथ कोऑपरेशन के लिए तैयार हैं।

- भारत में अफगानिस्तान के एंबेसडर डॉ. एसएम अब्दाली ने कहा- इस रीजन में पीस, स्टैबिलिटी और यूनिटी के लिए सभी कदम उठाए जाने चाहिए। इसके लिए सार्क देशों को एक साथ विचार करना होगा।

- समय आ गया है कि पाकिस्तान को एक सख्त मैसेज देना चाहिए। इसके लिए नवंबर में होने वाली सार्क समिट का भी बायकॉट किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए सभी को कोशिश करनी होगी।